Monday, June 27, 2011

Fatehgarh gives eco cabs to rickshaw pullers

FATEHGARH SAHIB: On Monday the Fatehgarh sahib district also joined the list of "eco rickshaw cab" districts of Punjab by handing over 50 eco cabs to poor rickshaw pullers of city here during a function organized by administration. 

The State Bank of Patiala (SBOP) has financed the all eco cabs under its DRI scheme and has spent total Rs 5 lakhs to purchase these new eco friendly rickshaws for city residents. The SBOP has spent Rs 10,000 on the purchase of each eco cab and has fixed 36 monthly installments of Rs 300 per month for all richshaw pullers to recover its loans given to each purchaser of eco cab. 

To increase the income of eco cabs pullers, the administration has decided to motivate locals to give advertisements on these cabs so that owners of these cabs could earn more money to repay their debt, they have taken from SBOP bank. 

"These eco cabs have first aid kits and FM radios. We hope these would attract maximum number of locals and motivate other rickshaw pullers also to opt for these environment friendly cabs." Said Fatehgarh Sahib Deputy Commissioner Yashvir Mahajan. The commissioner said after eco cabs they have plans to launch environment friendly Rehris for vendors also for all district. 

About the success of DRI scheme, the commissioner said SBOP bank authorities are offering every possible help and the locals should take benefit of this scheme. 

Before Fatehgarh Sahib, the Patiala, Fazilka, Moga and some other districts have also launched eco cabs with the help of DRI scheme of SBOP and in almost all cities the eco cabs are attracting more locals then other rickshaws.

Moga launches eco-rickshaw cabs

MOGA: In Moga, a rickshaw is now just a call away. Moga district administration on Sunday launched the eco-rickshaw cab facility in the city. 

Five rickshaw cabs were given to poor beneficiaries for plying on congested city roads. Starting in Fazilka three years back, `eco cabs` is the name given to traditional Indian rickshaw operations that are organized into a network that customers can directly call up. Fazilka, a border town in Ferozepur district with a population of less than one lakh, is the first city in the world to have a dial-a-rickshaw facility. 

Moga DC V N Zade said all the beneficiaries were provided these cabs at a nominal interest rate of 4% by Punjab and Sind Bank. Every bank in Moga district has been asked to finance at least five eco-cab rickshaws. Abhinav Trikha, ADC Moga, said, "The beneficiary has to simply give a request to the district development agency and it would be forwarded to the district lead bank." 

Some beneficiaries covered under the scheme said earlier, they had to pay Rs 20 per day as rent to ply the rickshaw on a routine basis, but now, they had to pay only Rs 200 per month as loan instalment. "Eco cabs are a low-cost solution to one of the key transport dilemmas in any urban area," said Navdeep Asija, an IIT graduate who belongs to Fazilka and is a leading force behind introduction of eco cabs in this border town. 

The eco cabs scheme allows people to call up rickshaw drivers to direct them as to where they are needed. The concept has been promoted as `dial-a-rickshaw`. With an order of Punjab & Haryana High Court, the concept which originated in Fazilka three years ago was fully adopted by both Punjab and Haryana governments.

Wednesday, June 22, 2011

कहीं खंडहर न बन जाए संस्कृत कालेज!

डा. अमर लाल बाघला, फाजिल्का

फाजिल्का का संस्कृत कालेज संभवत: पंजाब का सबसे पुराना कालेज है। लेकिन सौ वर्ष से पुराना ये कालेज आज बंद होने की कगार पर पहुंच गया है। सरकार की ओर से इस कालेज को कोई आर्थिक सहायता नहीं दी जा रही। यहां के धनाढ्य पेड़ीवाल परिवार व विद्वान साधू राम शर्मा की मेहनत के बदौलत ही यह कालेज अपना अस्तित्व बचाए हुए है।

उल्लेखनीय है कि इस कालेज ने देश को अनेक संस्कृत विद्वान दिए हैं। कालेज में विद्यार्थियों को जहां संस्कृत की नि:शुल्क शिक्षा दी जाती है, वहीं भोजन व रहने का प्रबंध भी नि:शुल्क है। संस्कृत से दूर होती जा रही आज की पीढ़ी का कोई भी स्थानीय युवा इस कालेज में नहीं है बल्कि ब्राह्मण वर्ग से संबंधित दूसरे राज्यों हरियाणा, राजस्थान आदि से विद्यार्थी यहां संस्कृत का ज्ञान हासिल करने आते हैं। इस कालेज में चारों वेद ऋगवेद, सामवेद, यजुर्वेद व अथर्वेद का प्रकाश है। लेकिन इसकी दुर्दशा यहां के बुद्धिजीवियों को चिंतित कर रही है।

कालेज के प्राध्यापक पंडित साधू राम शर्मा पंजाब, हरियाणा, राजस्थान व दिल्ली सरकारों द्वारा संस्कृत विद्वान के रुप में सम्मानित हो चुके हैं। लेकिन अब हालत ये है कि कालेज खंडहर में तब्दील होता जा रहा है। कालेज के दो कमरों की छतें टूटकर गिर चुकी हैं। राज्य सरकार की उपेक्षा से इस कालेज की शेष इमारत भी जर्जर होती जा रही है। पंजाब यूनिवर्सिटी से एफीलिएटेड होने के बावजूद इसे कोई ग्रांट नहीं मिल रही।

संस्कृत के प्रति लोगों की रुचि कम होने के कारण ही इस कालेज में संस्कृत पढ़ने वाले विद्यार्थियों की संख्या अब केवल 21 रह गई है। जबकि किसी समय यहां पर सैकड़ों विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण किया करते थे।


इन्होंने ली कालेज की सुध

फाजिल्का : पेड़ीवाल परिवार के अलावा कालेज की हालत पर चिंता जताते हुए फाजिल्का के समाजसेवी कैप्टन एमएस बेदी ने कालेज में कूलर प्रदान किया है। कालेज के गुरु राम निवास ने बताया कि समाजसेवी विनोद ज्याणी ने भी कालेज में इन्वर्टर लगवाने की बात कही है।

Malwa Diary :: Sanskrit college out of sync in cyber age?

The existence of the only Sanskrit college, established about eight decades back, of district Ferozepur is at stake as merely 18 students are left in the college. The college has a history of imparting education to hundreds of students in Sanskrit every year.

However, since other professionally remunerative subjects have become more popular, the number of students has been decreasing gradually. The college is being run by the Shri Sanatan Dharma Samiti, Fazilka.

The successive governments did not care to preserve the precious ancient Sanskrit heritage which was being kept alive by the Sanatan Dharma Sanskrit College of Fazilka.

Sanskrit subjects of Prayag-1, Prayag-2 and Shastri part I, II and final are being taught by only two teachers engaged by the management.

Sanskrit is an elective subject and the the government too does not seem to be keen to promote it.

Now, only those students are eager to take admission in the college who want to pursue their career as religious preachers in armed or para-military forces. Another section of students include those who want to follow the profession of astrology.

The Sanatam Dharma Samiti (Fazilka) has been able to preserve one of the oldest institution of the town.

No fee is charged from the students. They are provided with free lodging and boarding facilities.

Even the teachers have been offering free services under the able guidance of octogenarian Sanskrit scholar and eminent teacher Pt. Sadhu Ram Shastri for the last about half a century.

The Periwal family, noted philanthropists of the town, established a trust to run the college. The members of the family residing in distant areas of the country contribute benevolently. The philanthropists of the town also provide necessary financial help to the managing committee, says Sushil Periwal, president of the Samiti. He added that they would run the college and promote Sanskrit education despite all odds.

However, he said if the government provides financial assistance to the Samiti, a registered body, it can restore the old glory of the only college. — Praful C Nagpal

Tuesday, June 21, 2011

A bureaucrat who added to the strength of the steel frame- Kunwar Surinder Singh Bedi

Fazilka, June 20
Perhaps the only bureaucrat, who was a recipient of the prestigious civilian awards of the country, Padam Shri and Padam Bhushan, the legendary nonagenarian of Fazilka, Kunwar Surinder Singh Bedi (96), passed away in Mohali on Thursday night.

For his contribution during the 1965 and 1971 Indo-Pak wars as the District Magistrate and Commissioner of Jullundhur Division, Bedi was honoured with the highest civilian awards of the country.

Born in the Montgomery in the famous Bedi family of undivided Punjab, and the son of Baba Hardit Singh Bedi and grandson of Sir Baba Khem Singh Sahib Bedi, he migrated to Fazilka after the partition along with his three elder brothers.

"Surinder Singh Bedi was in the 15th generation of the direct lineage of Baba Shri Guru Nanak Dev Ji," claimed nephew Mohinderjit Singh Bunty Bedi of Fazilka.

The highlight of the career of this IAS officer was his considerable contribution, planning and liaisoning skills with Army officers during the two Indo-Pak wars as the District Magistrate of Amritsar and Commissioner, Jullundhur division.

He was honoured with Padma Shri in 1965 and Padma Bhushan in 1971. An alumnus of Chiefs College and Government College Lahore, he was awarded the most sought Rivaz medal as the best all-round student at Chiefs College in 1936. He not only excelled in academics but in sports as well. He developed his natural sporting ability particularly in the shooting arena and won the national Trap Shooting Championship in 1951-52. His love for sport took him into sports administration where he served as the President of the Punjab CricketAssociation and continued as a life member of the PCA. In the literary field, he loved Urdu poetry. His favourite of course was the poetry composed by his elder brother, renowned international Urdu poet Kunwar Mohinder Singh Bedi 'Sehar'.

Lightweight Ecocabs provided to rickshaw pullers

Lightweight Ecocabs provided to rickshaw pullers

Fazilka, June 20
Graduate Welfare Association, Fazilka, (GWAF) has provided five lightweight Ecocab modern rickshaws to five rickshaw pullers of the town in a function organised at the local Sanjay Gandhi Memorial Park here yesterday.

GWAF president Umesh Chander Kukar, secretary, Navdeep Asija, Municipal Council, president, Anil Sethi, industrialist, Sanjeev Nagpal, BSNL, SDO, KK Mittal, Rakesh Nagpal, president, Sarhad Social Welfare Society, Paramjit Singh Warer, organising secretary, Youth Akali Dal, were present on the occasion. Asija said as per the Punjab Government's instructions, the Ferozepur DC has called a meeting on June 28 with nationalised banks to disburse loan for Ecocabs under the DRI (differential rate of interest) scheme. — OC

Monday, June 20, 2011

Lightweight rickshaws loaned to pullers - Ludhiana Ecocabs

Raakhi Jagga, Indian Express, 19th June 2011

In an attempt to revive the declining number of rickshaws in the city, the administration has given newly designed Eco-cabs on loan to 20 rickshaw pullers today. A target of 1000 is to be achieved in 2 months.

The original intiative of this project was taken by Fazilka based NGO 'Graduates Welfare Association of Fazilka' (GWAF) and in Ludhiana this design has been made by Safari bikes.

Jarnail Singh, one of the rickshaw pullers said, "This rickshaw is 75 kg only as opposed to the 95kg of old model rickshaw. But it cannot carry more luggage. Still it seems to be more attractive. Lets hope for more clients."

There are only 35,000 rickshaws in the city today as opposed to 50,000 two years ago. The reasons for the decline are heavy traffic on roads and other means of transport.

KS Grewal, lead bank manager Punjab and Sind Bank(PSB) said, "We are giving a loan at 4% flat rate with identification proof and also proof of registration number in MC records. Earlier they were not being given this facility. The rickshaw is priced at Rs 9300 which is Rs 1500 costlier than the old model, but the manufacturers claim that has many facilities as well. We are giving them awareness to follow shorter routes to earn more money rather than going on busy roads where rickshaw pulling is difficult. Their numbers are reducing due to no safe place for rickshaw pullers on choked roads."

So they have been advised to make their presence in the congested areas of the city."

The bank has also asked the MC to advertise on one portion of rickshaw through the advertising contractors and that money should be kept as a deposit for bank. Grewal said, "In case the rickshaw pullers fail to return loans, that money will act as a security for us."

Tilak Raj and Mukesh Kumar from District Industries Department were also seen motivating the rickshaw pullers to buy the new model.

The rickshaws also have place for keeping a radio where FM stations can be played and it can be a good entertainment for the client. It can thus be named as 'radio rickshaw', said Sham Lal one of the rickshaw pullers.

Meanwhile GWAF has also proposed to make attractive shelters at the designated MC rickshaw stands and even proposed for tea and water for the pullers. But they have asked the MC authorities to free the stands from encroachments.

सरहद तक चलेंगी रोडवेज की बसें

देश की आजादी के बाद पंजाब रोडवेज की बसों की राह देख रहे सरहदी ग्रामीणों को जल्द ही बस सेवा उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके अलावा भारत-पाक सरहद पर स्थित सादकी बार्डर और 1965 व 1971 के शहीदों की समाधि आसफवाला तक भी बस सुविधा मिलेगी। इससे ग्रामीणों को फाजिल्का और जलालाबाद तक आने-जाने में काफी राहत मिलेगी। अब तक यह ग्रामीण अपने वाहनों या टैंपो पर सफर कर रहे हैं। यह जानकारी परिवहन मंत्री सुरजीत कुमार ज्याणी ने भास्कर से विशेष बातचीत के दौरान दी।

विद्यार्थियों को होगा फायदा
ज्याणी ने बताया कि सरहदी क्षेत्र में रोडवेज की बसों की कमी के कारण विद्यार्थी खासकर लड़कियां फाजिल्का तक का करीब 20 किलोमीटर का सफर तय नहीं कर सकती। इस कारण वे उच्च शिक्षा प्राप्त करने से वंचित रह जाती हैं। उन्होंने बताया कि जल्द ही फाजिल्का से सरहदी गांव तेजा रूहेला और गुलाबा भैणी तक बसें शुरू की जाएंगी। 

पर्यटक पहुंचेंगे सादकी बार्डर तक
सरहद पर स्थित सादकी बार्डर और शहीदों की समाधि आसफवाला तक कोई बस नहीं चलती। जिस कारण पर्यटक व अन्य अधिकांश लोग सादकी बार्डर पर रिट्रीट सेरेमनी का लुत्फ नहीं उठा सकते। इसके अलावा वे लोग शहीदों की समाधि पर नमन करने से वंचित रह जाते हैं। भाजयुमो महासचिव शाम लाल कंबोज ने बताया कि रोडवेज बस सुविधा शुरू होने से सादकी बार्डर और शहीदों की समाधि तक का लुत्फ उठाने के लिए सैकड़ों लोग रोजाना सफर करेंगे।

पुलों को चौड़ाई बढ़ाने की तैयारी
परिवहन मंत्री सुरजीत कुमार ज्याणी ने बताया कि सरहदी गांवों में कुछ नहरों और सेमनालों की पुलों की चौड़ाई कम है। इस बारे में उन्होंने रिपोर्ट मंगवा ली है। पुलों की चौड़ाई बढ़ाने की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। कार्य पूरा होने के बाद बसें शुरू कर दी जाएंगी।

दूसरी वर्षगांठ पर कम वजन के 5 रिक्शा लांच

ग्रेजुएट्स वेलफेयर एसोसिएशन की ईको कैब (डायल-ए-रिक्शा) रविवार को तीसरे साल में प्रवेश कर गई है। इस मौके पर लुधियाना के सफारी ग्रुप की ओर से तैयार कम वजन की पहली 5 रिक्शा लांच की गई। इस अवसर पर प्रेस क्लब कार्यालय में समारोह का आयोजन किया गया। इसमें नगर कौंसिल के अध्यक्ष अनिल सेठी और इंजीनियर संजीव नागपाल मुख्यातिथि थे। इस मौके पर गवफ अध्यक्ष उमेश कुक्कड़, सचिव नवदीप असीजा, बीएसएनएल के एसडीई कीर्ति मित्तल, लैंड मोरगेज बैंक के डायरेक्टर परमजीत सिंह पम्मा वैरड़, नरिंदर सवणा, ह्यूमन केयर रूरल अर्बन डिवेल्पमेंट सोसायटी के जिला कोआर्डीनेटर विशाल कामरा, राकेश नागपाल, जमींदारा फार्माश्यूशन के संचालक विक्रम आहूजा, नगर सुधार ट्रस्ट के सदस्य नरेश सेतिया, गीता सोफटेक कंप्यूटर्स के डायरेक्टर विनोद कुमार, मनोज त्रिपाठी, आदि मौजूद थे। 
रिक्शा चालकों की समस्याएं होगी हल 
इस मौके पर रिक्शा यूनियन की ओर से कौंसिल अध्यक्ष को अपनी समस्याएं बताई गई। सेठी ने कहा कि यूनियन के लिए मलोट चौक, शास्त्री चौक और मुलतानी चुंगी पर नए स्टैंड बनाए जाएंगे। इसके अलावा बस स्टैंड वाले रिक्शा स्टैंड पर लोगों व चालकों के लिए पानी की व्यवस्था का भी वादा किया। 
संस्कृत के श्लोकों से आगाज : रिक्शा की शुरुआत संस्कृत श्लोकों से किया गया। इस मौके पर फाजिल्का के संस्कृत कालेज के गुरु राम निवास ने श्लोक पढ़े। इसके बाद कौंसिल अध्यक्ष अनिल सेठी, संजीव नागपाल और विक्रम आहूजा ने रीबन काटकर इन का आगाज किया। इस मौके पर गीता सॉफटेक की ओर से ईको कैब की 5 रिक्शों की पेमेंट पहले तीन माह तक देने की घोषणा की गई। गोडेशिया की ओर से ईको कैब के लिए फस्र्टएड किटें दी गई। नवदीप असीजा ने बताया कि इन रिक्शा चालकों का बीमा भी किया जाएगा। इसके अलावा पांचों मॉडल रिक्शा ने शहर में रोड शो किया।

नई सुविधाओं के साथ लांच की गई नई ईको कैब

जागरण संवाददाता, फाजिल्का

फाजिल्का से शुरू होकर पंजाब के विभिन्न महानगरों में पहचान बना चुकी ईको कैब की तीसरी वर्षगांठ के मौके पर रविवार को पांच नई ईको कैब लांच की गई। यह ईको कैब वैदिक मंत्रोच्चारण के बाद सड़कों पर उतारी गई।

उल्लेखनीय है कि ग्रेजुएट वेलफेयर एसोसिएशन की ओर से तीन साल पहले फाजिल्का में आधुनिक रिक्शा लांच किया गया था। कम भार, एफएम रेडियो, वाटर कूलर, फ‌र्स्ट एड बाक्स वाले इस रिक्शा को इतनी लोकप्रियता मिली कि इस रिक्शा को डिजाइन करने वाले सिविल इंजीनियर व एसोसिएशन के सचिव नवदीप असीजा को लुधियाना, पटियाला, अमृतसर जैसे महानगरों की एनजीओ ने ऐसे रिक्शा तैयार करने के लिए बुलाया और आज उन नगरों में फाजिल्का से कई गुना अधिक ईको कैब चल रहे हैं। ईको कैब की तीसरी वर्षगांठ के मौके पर पिछले वर्षो में इसमें पाई गई कमियों को दूर कर कम भार वाली पांच नई ईको कैब स्थानीय प्रताप बाग में लांच की गई। इस बार ईको कैब धारकों को बीएसएनएल द्वारा प्रदत्त प्रीपेड ग्रुप मोबाइल नंबर की सुविधा भी दी गई है, इससे ये रिक्शा चालक आपस में मुफ्त में बात भी कर सकेंगे। इस मौके पर नगर परिषद अध्यक्ष अनिल सेठी, नासा एग्रो इंडस्ट्री के संचालक इंजीनियर संजीव नागपाल, भारत संचार निगम लिमिटेड के डीईटी कीर्ति मित्तल, राकेश नागपाल, नरेश सेतिया, विशाल कामरा, स्टूडेंट्स आर्गेनाइजेशन आफ इंडिया के ब्लाक अध्यक्ष नरेंद्र सवना, विनोद कुमार, संजीव झांब, एसोसिएशन के अध्यक्ष एडवोकेट उमेश चंद्र कुक्कड़ व महासचिव मनोज त्रिपाठी मौजूद थे। गोडाटिया हेल्थ केयर बद्दी की ओर से नई लांच की गई ईको कैब में फ‌र्स्ट एड किट प्रदान की गई है।

Sunday, June 12, 2011

Fazilka ecocab scheme nets BSNL as telecom partner

Praful Chander Nagpal
Fazilka, June 11

Bharat Sanchar Nigam Ltd. (BSNL) has decided to provide free pre-paid mobile connections to the rickshaw pullers (Ecocab owners) in Fazilka to provide rickshaw facility to the residents of this border town on call.

These rickshaw pullers would be able to talk to each other on these mobile numbers free of cost. Nine hundred mobile connections would be provided here under the Close User Group (CUG) plan soon.On the initiative of the Graduate Welfare Association (GWAF), Fazilka, the first of its kind dial-a-rickshaw service finally got its telecom partner.

An official communication in this regard was received by the GWAF office-bearers on Friday. Under the scheme, for the first time in the country, any telecom operator has extended the "Close User Group" (CUG) plans on pre-paid mobile connections.

Under the plan, a free SIM with lifetime validity will be provided to the Ecocab operators. In Fazilka, zone-wise all eco-cab operators have been registered and given three digit registration numbers by the GWAF.

Another significant aspect of the plan is that each ecocab operator shall have the last three digit of their mobile number same as their ecocab registration numbers. Notably, BSNL has waived the Rs 60 per month rent charges on CUG also along with providing them free SIM.

"It took one year to pursue with the telecom partner the concept with such elaborate but simple benefit to Ecocab operators and this is a surprising gift to the Ecocab operators on the occasion of the third ecocab anniversary, which shall be observed on June 20 in Fazilka," said Navdeep Asija, Secretary GWAF.

The organized structure of the ecocabs via mobile numbers would also help get the facility of Ecocab Dial - a rickshaw through a self-regulated mode, in a better way. "We faced many problems with private telecom operators during the three years of our operations at Fazilka, unwanted tariff, caller tunes and other facility under which they used to deduct money from poor ecocab operator's account. With the association with BSNL, our Ecocab operators will be able to get free extended benefit, like free calling within CUG and lifetime validity without paying anything," said Dr Bhupinder Singh, patron, GWAF.

"BSNL is happy to extend such plan to Ecocab operators and to associate with such unique and environment-friendly concept and we look forward to extending it to the other cities of Punjab as well," said Mr Sandeep Diwan, General Manager (Enterprise Business), Punjab Circle, BSNL.

The scheme is expected to benefit over three lakh families of rickshaw pullers.

Saturday, June 11, 2011

बीएसएनएल से कनेक्ट हों और इकोकैब में बैठें

इको कैब का रिक्शा शहर के किसी भी कोने में हो, आप रिक्शा चालक को एक फोन कॉल पर बुला सकते हैं। चालक आपके बताए पते पर पहुंचेगा और आपको मंजिल तक पहुंचाएगा भी। इसके लिए भारत संचार निगम इको कैब सदस्यों को फ्री 900 मोबाइल कनेक्शन दिए देगा। इस बारे में ग्रेजुएट्स वेलफेयर एसोसिएशन फाजिल्का और बीएसएनएल में एग्रीमेंट हो गया है। देशभर में प्रीपेड के ऊपर क्लोज यूजर ग्रुप की सुविधा पहली बार दी गई है, जोकि अभी तक पोस्टपेड कनेक्शन पर ही उपलब्ध थी। इस सेवा को एक महीने के अंदर उपलब्ध करवा दिए जाएंगे। 

जनता को मिलेगी सुविधा

इससे फाजिल्का वासियों और अन्य शहरों से आने वाले लोगों को यह सुविधा होगी कि पहले की चल रही सुविधा रिक्शा स्टैंड के अलावा अब अपने मन पसंद के रिक्शा चालक को फोन कर बुला सकते हैं। इंटरप्राइज बिजनेस पंजाब सर्कल बीएसएनएल के जनरल मैनेजर संदीप दीवान ने बताया कि हमें खुशी है कि गवफ ने दुनिया की पहली डायल-ए-रिक्शा के लिए हमारे साथ करार किया है। उन्होंने बताया कि सरहदी क्षेत्र में उनके सिग्नल पूरे चलते हैं। इस प्लान के तहत देश भर में किसी भी लैंडलाइन या मोबाइल पर सरल आनंद प्लान के तहत रिक्शा चालक एक पैसा प्रति सेकंड की दर से फोन कर सकेंगे और आपस में 900 लोगों को बात करने के लिए बिल्कुल मुफ्त होगा। यह कनेक्शन लाइफ टाइम वेलिडिटी के लिए दिए जा रहे हैं और रिचार्ज कम होने पर भी यह नंबर बंद नहीं होंगे।

अब यह होगी खासियत

गवफ सचिव नवदीप असीजा ने बताया कि इको कैब के तहत रिक्शा चालकों के लिए फाजिल्का को पांच केंद्रों उत्तर, दक्षिण, पूर्व, पश्चिम व मध्य में बांटा गया है। इको कैब सदस्यों की रजिस्टे्रशन की गई है और वह नंबर उनके आई कार्ड पर दिया गया है। इन कनेक्शनों की खासियत यह है कि सदस्यता कार्ड के अंतिम तीन नंबर उनके मोबाइल नंबर वाले होंगे। अब इको कैब सदस्य अधिक हो गए हैं। उसी हिसाब से मोबाइल के नंबर फाजिल्का को अब बढ़े हुए आठ भागों में बांटकर दिए जाएंगे। इसके अंतर्गत सारे रिक्शा चालक आपस में बात फ्री कर सकेंगे। इस सेवा का मासिक शुल्क 60 रुपए, बीएसएनएल रिक्शा वालों से नहीं लेगा। असीजा ने बताया कि इससे जहां रिक्शाचालकों को फायदा होगा, वहीं आम आदमी की सुविधाओं में भी बढ़ोतरी होगी। साथ उन्होंने यह भी बताया कि करीब दो साल से ज्यादा समय से फाजिल्कावासियों को सेवा दे रही इस कैब का किराया भी और साधारण रिक्शा और हर शहर में दौड़ रही ऑटो की अपेक्षा ज्यादा किफायती है।पहले यह थी परेशानी

इको कैब पहले डायल-ए-रिक्शा के तहत शुरू की गई थी। इसके तहत हर कार्यालय में लैंडलाइन फोन की सुविधा थी। इको कैब के उत्तरी विंग सीनीयर प्रधान हंसा सिंह, प्रधान गुरदीप सिंह, उपप्रधान मनजिंद्र सिंह, राज कुमार, दक्षिण विंग के प्रधान दिलीप कुमार, पश्चिम विंग के प्रधान प्रीतम कुमार, मध्य विंग के प्रधान देस राज और पूर्व विंग के प्रधान अशोक कुमार ने बताया कि बीते दो वर्षों के कार्यकाल में डायल-ए-रिक्शा सेवा में तकनीकी रूप से काफी परेशानी आई थी, जिसमें लैंडलाइन फोन का चार्ज खत्म होना और प्राइवेट दूर संचार कंपनियों द्वारा जबरदस्ती कालर ट्यून व एसएमएस भेजकर रिक्शा वालों से नाजायज पैसे काटना और जब वह अपने घर जाते थे तो उनके गांव में टावर न होने के कारण मोबाइल का न चलना आदि परेशानियां थी, मगर बीएसएनएल से इकरार के कारण अब उन्हें इन समस्याओं से छुटकारा मिलेगा।

Friday, June 10, 2011

रिक्शा चालकों को मिलेगी प्री-पेड मोबाइल सेवा

जागरण संवाद केंद्र, फाजिल्का

ग्रेजुएट वेलफेयर एसोसिएशन फाजिल्का ने रिक्शा चालकों के हित में चलाए अभियान के तहत देश में पहली बार मोबाइल ग्रुप सेवा प्री-पेड में हासिल की है। यह सेवा बीएसएनएल ने प्रदान की है। एसोसिएशन के सचिव इंजीनियर नवदीप असीजा ने बताया कि यह नंबर शहर के करीब सात सौ रिक्शा चालकों में बांटे जाएंगे। इन नंबरों से वे आपस में तो निशुल्क बात कर सकेंगे, साथ ही आम जनता में बांटे जाने वाले विशेष सीरिज के उक्त अंकों वाले नंबर पर सस्ती दर में काल करके लोग रिक्शा अपने घर बुला सकेंगे। इस विशेष सीरिज वाले नंबर के आखिरी तीन अंक रिक्शा चालकों की रजिस्ट्रेशन वाले नंबर वाले होंगे। उल्लेखनीय है कि एसोसिएशन इससे पहले कम वजन वाली रिक्शा का आविष्कार कर ईको कैब के नाम से डायल-ए-रिक्शा सर्विस लांच कर चुकी है।

Punjab cycles ahead on eco-cab project

Ludhiana and Sangrur to launch the new light-weight rickshaws by month-end

While Haryana and the Chandigarh Administration are still taking baby steps where the eco-cab project is concerned, Punjab is going strong. At Fazilka, Amritsar and Patiala, the lightweight, eco-friendly rickshaws are gaining in popularity, with Ludhiana and Sangrur all set to join the bandwagon.

Taking suo moto cognizance of a report on eco-cabs published in The Indian Express, The Punjab and Haryana High Court had directed Haryana, Punjab and Chandigarh to introduce these light-weight rickshaws in their respective areas. These rickshaws are called eco-cabs because they do not use any wood, and are made of hollow steel pipes. Since they weigh only 65-70 kg, it is much easier for the rickshaw puller to pull them. The traditional model weighs 90-95 kg.

In Haryana, only the Panchkula Municipal Corporation has made some headway by setting up a committee to study the eco-cabs and submit its report. Chandigarh has begin initial work on the project too, but Punjab has taken a clear lead in the region.

Deputy Commissioner (DC) Ludhiana Rahul Tiwari and DC Sangrur Kumar Rahul say the eco-cabs will be launched in their respective areas by the end of this month. To ensure that rickshaw-pullers they are comfortable with the new model, the DCs in both these cities have actively involved the local rickshaw associations, and ensured 'test rides' to get their feedback. Tie-ups have been made with banks to finance these rickshaws at only four per cent rate of interest.

Talking to The Indian Express, Tiwari said that 15 eco-cabs will be launched in the second half of June. "Rickshaw pullers pay a daily rent of Rs 20 to the owner for pulling the rickshaw. With the bank finance, the daily cost will come down to Rs 6, and within four years, they will also own the rickshaw," he said. "Later, we will try to get advertisements for the side panels of these eco-cabs, which will enable the rickshaw puller to pay back his loan faster," he said.

Amritsar has about 80 eco-cabs on the roads, and Deputy Commissioner KS Pannu said the rickshaw pullers also earn from advertisements on the side panels.

Sangrur is also ready to launch 20 eco-cabs within this month. "The rickshaw association was happy to learn about the bank finance, and how it will bring down their costs," said DC Kumar Rahul. At both Ludhiana and Sangrur, members of the rickshaw association were shown three-four models of eco-cabs. The changes suggested by them will be communicated to the manufacturer.

Users wary

In Ludhiana, rickshaw-pullers are apprehensive about the eco-cab on two counts. One, they say they make additional money at night by loading and delivering goods on it from the railway station and other places. Since the eco-cab has no space at the back, it cuts their earnings. Second, they fear that these lightweight rickshaws may topple after a bump or two on the busy city roads, which the sturdy traditional model can well weather. Officials have assured them that these eco-cabs are running successfully where they have been launched, and have urged them to experiment with these much-lighter rickshaws

Eco-cabs to ply on city roads :: HC fixes July 15 deadline for installing speed governors

Tribune News Service
Chandigarh, May 27
Modern rickshaws, popularly known as eco-cabs, may soon be plying on Chandigarh roads. The spacious rickshaws are 25 per cent lighter than the existing models.

As a traffic-regulation case came up for hearing before the Punjab and Haryana High Court Division Bench of Justice Surya Kant and Justice Ajay Tewari, senior standing counsel for Chandigarh Administration Sanjay Kaushal said they had approached the manufacturer of the eco-cabs. The Chandigarh Municipal Corporation too had written to the UT department of science and technology for 10 eco-cabs as a part of a pilot project, he added.

Taking up the matter, the Bench also fixed July 15 as the deadline for the states of Punjab and Haryana to take a decision on installing speed governors on transport vehicles.

The Bench also made it clear that in case of failure to take a clear cut decision in the matter, the principal secretary or the transport commissioner would remain present in the court on the next date.

The issue of installing speed governors on private vehicles is also expected to come up for discussion at a later date.

The Bench is currently hearing a petition filed by an NGO, Suraksha Foundation. It is seeking directions to the states of Punjab, Haryana and Chandigarh, to prepare an implementation plan for installation of electronic speed governors within a specific timeframe for reducing the road accidents.

In the petition, the foundation had earlier sought directions to the state of Punjab and another respondent to "follow the provisions of Rule 118 of the Central Motor Vehicle Rules and to direct the state to prepare an implementation plan for the installation of electronic speed limiters within a specific time frame." 

Friday, June 3, 2011

Soon, Ropar to get eco-cabs

Tribune News Service

Ropar, June 2
Ropar will start the eco-cab service on the lines of existing ones in Fazilka, Amritsar and Patiala. The Punjab Tourism Development Board will launch the eco-cabs at Ropar in collaboration with the Rotary Club, Ropar.

Under this collaboration, the club will identify beneficiaries and will provide a sponsorship of Rs 500 needed for seeking loan from the government. Basic aim behind the launch of the eco-cabs is to provide employment opportunities to the poor, which are better and safer than the usual rickshaws.

An eco-cab is an improvised version of rickshaw with low floor, lightweight, maintenance free, FM Radio, water bottle, magazine holder, more space to store luggage, improved road safety features and dial a rickshaw facility in big cities.

Cost of an eco-cab is Rs 11, 257 and beneficiary will contribute only Rs 500, while rest will be given as loan. "We will identify the prospective beneficiaries by next week," said club president Dr RS Parmar.

Aspirants would be provided loan, which can be repaid in easy monthly instalments. The rickshaw owners can also get benefit from exhibiting advertisements. However, some of the people have been apprehensive about the success of the eco-cabs in the town.

"The Patiala city has got lukewarm response, but we hope its better in Ropar," added the officials.

Wednesday, June 1, 2011

फाजिल्का के मोहक का पीएमइटी में शानदार प्रदर्शन

जागरण संवाददाता, फाजिल्का

सीबीएसई पीएमइटी में आल इंडिया लेवल पर फाजिल्का के मोहक कटारिया ने 30वां रैंक हासिल किया है।

स्थानीय सरकारी अस्पताल में डेंटिस्ट एवं खुईखेड़ा कम्यूनिटी हेल्थ सेंटर में नियुक्त डा. चंद्र कटारिया के पुत्र मोहक ने 'दैनिक जागरण' के साथ बातचीत की। स्थानीय आर्मी स्कूल के छात्र मोहक ने अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता के आशीर्वाद, कोटा एक्सपर्ट डा. विजय विश्वास व उनकी पूरी टीम को दिया। मोहक डाक्टर बनकर अपने पिता की तरह ग्रामीण अंचल में मरीजों की सेवा करना चाहता है। इन दिनों वह दिल्ली में 11 जून को होने वाली काउंसलिंग की तैयारी में व्यस्त है। मोहक दिल्ली के ही मौलाना आजाद मेडिकल कालेज में एडमिशन लेना चाहता है। पढ़ने लिखने के अलावा मोहक को क्रिकेट खेलने और मैच देखने का शौक है। समाचार पत्रों में उसे दैनिक जागरण का जोश अच्छा लगता है। मोहक का कहना है कि इस संस्करण से मिलने वाली जानकारियों से विद्यार्थियों को सही मार्गदर्शन मिलता है। मोहक की माता डा. अनीता कटारिया अपने दूसरे पुत्र नीलांशु को आगे बढ़ने की प्रेरणा देती रही हैं। उन्होंने डा. विजय विश्वास, उनकी पूरी टीम और स्कूल स्टाफ का आभार जताया है।

धुएं में उड़े तंबाकू रोधी कानून

फाजिल्का, Laxman Dost, Dainik Bhaskar
सरकारी कार्यालयों बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और अस्पताल में लोगों ने खूब तंबाकू के कश लगाए। हालांकि अस्पताल, प्रताप बाग, रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर 'तंबाकू का सेवन मना हैÓ के बोर्ड स्थापित किए गए हैं। कानून के मुताबिक सार्वजनिक स्थानों पर नशा करने से रोका गया है। अगर कोई सार्वजनिक स्थान पर तंबाकू का सेवन करता है तो उसे जुर्माना करने का प्रावधान है, लेकिन आज के दिन किसी नशेड़ी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई।

हर वर्ष तंबाकू से होती है ३५ लाख से ज्यादा मौतें

फिरोजपुर & हर वर्ष विश्व में 35 लाख से ज्यादा लोग तंबाकू के सेवन से मरते हैं। यह सनसनीखेज खुलासे विश्व तंबाकू विरोधी दिवस के अवसर पर सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल में करवाए गए सेमिनार में प्रवक्ताओं ने विद्यार्थियों के समक्ष पेश किए। प्रिंसिपल बलबीर सिंह ने बताया कि सेमिनार में जिला साइंस सुपरवाइजर इकबाल सिंह बराड़, सहायक साइंस सुपरवाइजर दविंद्र नाथ, इंस्पेक्शन टीम सदस्य विकास छाबड़ा एवं प्रोग्राम अधिकारी जगदीप पाल सिंह, मनजीत सिंह व अंग्रेज सिंह प्रवक्ताओं के रूप में शामिल हुए। मनजीत सिंह ने कहा कि ना तो भारत की संस्कृति और न ही कोई धर्म मानव को नशा करने के लिए प्रेरित करता है, पश्चिमी प्रभाव के कारण नशाखोरी का भारत में अधिक चलन है। जगदीप पाल सिंह ने कहा कि तंबाकू नशा के कारण मानव समय से पहले मौत के मुंह में चला जाता है, जहां तंबाकू का सेवन न करने वालों में .42 प्रति 1000 कैंसर का खतरा होता है, वहीं तंबाकू के सेवन वालों में यह संख्या नौ व्यक्ति प्रति हजार है।

तंबाकू को छोडऩा ही बेहतर

जलालाबाद & बार एसोसिएशन में मंगलवार को तंबाकू विरोधी दिवस पर एक समागम का आयोजन किया गया। जिसमें बार एसोसिएशन के अलावा सैकड़ों की संख्या में क्षेत्र के लोगों ने भाग लिया। जज आरके सिंगला (एसडी जेएम) तथा अमनदीप सिंह (जे एमआईसी) मुख्य तौर पर शामिल हुए। बार एसोसिएशन अध्यक्ष संजीव चुघ तथा सचिव रजिंद्र भाटा तथा समूह बार सदस्यों ने जजों का स्वागत किया तथा इसके बाद आयोजित समागम के दौरान लोगों को तंबाकू के नशे को छोडऩे के लिए प्रेरित किया। तंबाकू के नुकसान बताए 

फाजिल्का & विश्व तंबाकू विरोधी दिवस पर मंगलवार को सरकारी सीनियर सेकंडरी स्कूल (लड़के) में एक जागरुकता शिविर का आयोजन किया गया। इसमें स्कूल की पसवक कमेटी के चेयरमैन व नगर कौंसिल के पूर्व उपाध्यक्ष सतिंद्र सिंह सवि काठपाल मुख्यातिथि थे। इस मौके पर स्कूल पिं्रसिपल गुरदीप करीर, लेक्चरर पम्मी सिंह, संदीप अबरोल, डॉक्टर अमर लाल बाघला आदि मौजूद थे।हर बीमारी की जड़ है नशा

नशा जीवन को बर्बाद कर देता है। स्मोकिंग प्रत्येक बीमारी की जड़ है। तंबाकू का सेवन करने वाले को तो नुकसान होता ही है, साथ ही उसके साथ खड़े व्यक्ति को भी उतना ही नुकसान पहुंचता है। गर्भवती महिलाओं के बच्चे पर भी इसका असर पड़ता है। बच्चे का विकास रुक जाता है और उसके बढ़ रहे अंग अधूरे रह जाते हैं। तंबाकू से फेफड़ों का कैंसर, दमा, श्वास, मुंह का कैंसर, टीबी सहित अनेक रोग तंबाकू से होते हैं। दिल के रोगों से पीडि़त लोगों को तो नशे से दूर रहना चाहिए। नशे से पर्यावरण पर बुरा प्रभाव पड़ता है। सरकार की ओर से सार्वजनिक स्थानों पर तंबाकू के सेवन पर रोक लगाने के बावजूद कई लोग तंबाकू पीते हैं। लोगों को नशे से गुरेज करना होगा, वरना पंजाब में जवानों की कमी हो जाएगी।"" डॉक्टर यशपाल जस्सी, हार्ट स्पेशलिस्ट