Saturday, April 28, 2012

Minister unearths racket of illegal sand mining in Fazilka

By Daily Post
Manoj Tripathi


On Friday afternoon when Forest and Labour Minister Surjit Kumar Jayani impounded two tractor-trolleys laden with sand near Khui Khera village on the Fazilka-Abohar National Highway, he thought that it was a small matter and could be solved immediately, but when the labourers revealed the truth of alleged sand mafia, he was shocked. Jayani immediately made telephonic calls to the police and civil officials and brought the matter to their notice. Within an hour several calls from the big-wigs having political affiliation manning the bussiness of sand were received by the minister to push the matter under carpet. 

When Daily Post inquired about the matter, it was revealed that the mining contractors operating in clear violation of laws were not only digging out sand along the roads in many villages in this newly created district leaving deep gorges in the area and threatening the ecology but were also charging exorbitantly from the consumers.

On a visit to Badha, Mojam and Salem Shah villages, this correspondent saw up to 40-foot deep gorges dug out for sand to be sold for commercial purpose. While nearly half a dozen tractor-trolleys were being loaded in the area at a time. Labourers working at the site said no official of the Mining Department, ever visited the area owing to the apparent collusion of authorities. 

Digging along roads has been going on unchecked which is in violation of mining rules. Industries Department of Ferozepur is the main agency to issue mining contract to the miners. While the Mining Department auctioned the sand mining contract in Ferozepur (including Fazilka) and Moga districts after specific direction from theHigh Court, the going rate for sand has shot up almost 20 times in the last 6-7 years. 

Nowadays contractors are charging Rs. 1200 for tractor-trailer and Rs 8000 for a truck. It may be mentioned here that the government. has fixed Rs 2.60 per cubic foot to be charged by a contractor. The government. price includes Rs 1 as labour cost, 80 paisa for contractor and 80 paise for the owners of the mining land. But in clear violation, contractors are charging almost Rs 8 per cubic feet from the consumers.

It is estimated that around 150 trucks and 250 tailors of sand are being excavated in Badha, Salemshah, Miani basti, Mojam, Killi, and Gatti villages daily and 1000 labourers are working for the contractor.

It was also revealed that in some villages Panchayat had leased 4-5 acre to private contractors but with the connivance of the authorities contractors are digging 30/40 acres of village land in certain places. 

Monday, April 23, 2012

Budget burden: Insurance for tractors up by 200%

The after effects of the union budget have surprised tractor manufacturing companies and even the farmers as tractors have been kept in the commercial segment. With this, the insurance of this vehicle has been increased by more than 200%. The farmers associations though have approached the Principal Secretary to CM but no response has come. The farmers as well as the farm solution companies want a clarity on this subject.
Rajmeet Singh, area manager Swaraj tractors said, "A tractor priced Rs 6 lakh used to be insured with about Rs 8,000 and now this amount has been hiked to Rs 22,000 at par with the diesel cars. The government need to clarify on this subject because insurance companies are giving us this feedback and it will not be in interest of farmers."

Vikram Ahuja, from Zamindara farm solutions and also member of Farmers association Fazilka said," the hike in insurance charges has been done by Insurance regulatory development authority (IRDA) after the union budget announcement. Already the farmers have not been given any bonus on wheat crop and now another blow will be a big shock."

The third party insurance of the vehicle will now be Rs 12,000 instead of Rs 14,000 of the previous prices. Information revealed that the move was to discourage the sale of diesel car but no one was expecting that tractors will also be placed in the same category.

Ahuja meanwhile stated that though it is a centre specific subject but still the state Government must take up this matter with the centre for the larger interest of the farmers in the state. He stated that they have already taken up the matter with the Principal Secretary Gaganjit Singh Brar but he has not responded back so far.

Speaking on this issue, Darshan Singh Koohli, General secretary of Bharti Kisan Union said," this is anti-farmer move by the centre government and the state Government is quiet which shows that how much they are concerned about the farmers. There needs to be a roll back and state must press hard on this subject."

This will affect the business of tractors in Punjab and specially for those who get finance of the tractors done. This huge increase is not justified, complained the farmers.

इकोकैब ने पूरी दुनिया में चमकाया फाजिल्का का नाम

अमृत सचदेवा, फाजिल्का

फाजिल्का की ग्रेजुएट वेलफेयर एसोसिएशन द्वारा तैयार की गई नए ढंग की रिक्शा जिसे इको कैब नाम दिया गया है, ने शहर का नाम पूरी दुनिया में रोशन कर दिया है। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन ने इकोकैब को दुनिया के 15 प्रमुख यातायात प्रोजेक्टों में शामिल किया है। इसके लिए करीब सौ देशों के यातायात प्रोजेक्टों के आवेदन आए थे। 15 वाहनों की सूची में फाजिल्का की इकोकैब चौथे स्थान पर है। प्रथम तीन स्थानों के लिए जारी ऑनलाइन वोटिंग के दौरान अगर यह प्रथम तीन प्रोजेक्टों में आती है तो फाजिल्का के मेयर (नगर परिषद अध्यक्ष) को ब्राजील बुलाकर सम्मानित किया जाएगा।

क्या है इकोकैब
फाजिल्का: देश भर में काम कर रहे लाखों रिक्शा चालकों की कमजोर सेहत और मोटर वाहनों के अंधाधुंध प्रयोग से बढ़ रहे प्रदूषण के मद्देनजर नई रिक्शा को पारंपरिक रिक्शा से कम वजन का बनाया गया है। इसमें यात्रियों के लिए एफएम रेडियो, पेयजल, बुजुर्गो के आसानी से चढ़ने के लिए नीचा प्लेटफार्म आदि खूबियां जोड़ी गई हैं। चार साल पहले इकोकैब निर्माण के साथ फाजिल्का में डायल-ए-रिक्शा प्रोजेक्ट भी शुरू किया गया था। इससे इकोकैब देश की पहली फोन के जरिये बुलाई जाने वाली रिक्शा सर्विस बन गई थी। इस रिक्शा का मकसद जहां रिक्शा चालकों का बोझ कम करना था वहीं लोगों को छोटे छोटे कार्यो के लिए मोटर वाहन के बजाय पब्लिक ट्रांसपोर्ट यानी रिक्शा के प्रयोग के लिए प्रेरित कर प्रदूषण से मुक्ति का था। बाद में यह सर्विस एंड्रायड एप्लीकेशन के साथ जोड़ दी गई। यह प्रोजेक्ट भी देश का पहला ऐसी परियोजना बना जिसमें यातायात के सबसे छोटे साधन में इस एप्लीकेशन का प्रयोग किया गया।

पर्यावरण प्रेमियों की अगली मंजिल ब्राजील

फाजिल्का : अमेरिका की मिशिगन यूनिवर्सिटी द्वारा इकोकैब को दुनिया के प्रमुख यातायात प्रोजेक्टों में शामिल किए जाने के बाद पर्यावरण प्रेमियों का अगला निशाना ब्राजील में होने वाली संयुक्त राष्ट्र कांफ्रेंस ऑन सस्टेनएबल डेवलपमेंट है। अगर ऑनलाइन वोटिंग के जरिये फाजिल्का इकोकैब जोकि चौथे पायदान पर है, प्रथम तीन प्रोजेक्टों में शामिल हो जाती है तो इस प्रोजेक्ट में सहयोग के लिए नगर परिषद अध्यक्ष अनिल सेठी को 13 जून 2012 को ब्राजील बुलाया जाएगा।

पर्यावरण रक्षक वाहनों के लिए अथारिटी बनाए सरकार : हाईकोर्ट

अमृत सचदेवा, फाजिल्का

फाजिल्का की ईकोकैब पर फिदा अमेरिका ने जहां उसे दुनिया के प्रमुख 15 यातायात प्रोजेक्टों में शामिल किया है, वहीं पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट को भी यह प्रोजेक्ट इतना भाया है कि उसने राज्य सरकार को सभी शहरों में ईकोकैब चलाने के निर्देश दे रखे हैं। इस संबंध में 20 अप्रैल को जारी ताजा निर्देशों में हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को नान मोटर व्हीकल अथारिटी गठित करने के लिए नोटिस जारी किया है।

उल्लेखनीय है कि ईको कैब की विशेषताओं जैसे रिक्शा पुलर की कमजोर सेहत के मद्देनजर कम वजन, एफएम रेडियो, पेयजल सुविधा को देखते हुए हाईकोर्ट ने 28 अप्रैल 2010 को सुओ मोटो एक्शन के तहत राज्य सरकार को पूरे प्रदेश में ऐसे रिक्शा चलाने के आदेश दिए थे। इस पर राज्य की चीफ सेक्रेट्री टूरिज्म ने सभी जिलों के डिप्टी कमिश्नरों की बैठक बुलाकर हर जिले में ईकोकैब चलाने के निर्देश दिए थे। उसी का नतीजा है कि अब पंजाब के 19 जिलों के प्रमुख 22 शहरों में ईको कैब लांच हो चुकी हैं।

20 अप्रैल को हाईकोर्ट ने क्या कहा

फाजिल्का: अपने सुओ मोटो एक्शन बारे ताजा निर्देशों में हाईकोर्ट ने 20 अप्रैल को राज्य सरकार को नान मोटर व्हीकल अथारिटी के गठन का नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने ग्रेजुएट वेलफेयर एसोसिएशन के सचिव इंजीनियर नवदीप असीजा के सुझाव के अनुसार पुणे की तर्ज पर पंजाब में पैदल या नान मोटर व्हीकल अथारिटी गठित करने का नोटिस जारी किया है। यह अथारिटी सड़क किनारे पैदल या नान मोटर व्हीकल पर चलने वाले लोगों की सुरक्षा के लिए विशेष प्रयास करेगी।

क्यों है अथारिटी की जरूरत

फाजिल्का : परिवहन आंकड़ों के अनुसार वर्तमान में पंजाब में 52 लाख मोटर व्हीकल हैं। उनमें पांच लाख कारें हैं व शेष बस, ट्रक, तिपहिया व दुपहिया वाहन हैं, जबकि चार करोड़ चार लाख नान मोटर व्हीकल यानी रिक्शा, बैलगाड़ी, साइकिल आदि हैं। उनमें तीन लाख रिक्शा हैं। इनकी सुरक्षा के लिए कोई अथारिटी नहीं है। ऐसे में सड़कों पर चलने वाले ज्यादातर नान मोटर व्हीकल्स को तेज रफ्तार मोटर व्हीकलों के कारण वह हादसों का शिकार होते हैं। इन हादसों को रोकने के लिए पुणे की तर्ज पर नान मोटर व्हीकल अथारिटी का गठन पंजाब में जरूरी है।

Fazilka’s ecocab project in race for int’l award

Praful Chander Nagpal
Fazilka, April 22

The Dial-a-rickshaw, Fazilka's eco-cab venture, has been short-listed for the SMART Mobility Enterprise Award 2012. The project has to compete with 14 contenders for the award. Besides Dial-a-rickshaw, there are two more entries from India — G-Auto and Ideophone.

The award was constituted by the University of Michigan's SMART Program (Sustainable Mobility & Accessibility Research & Transformation), USA, for the best social entrepreneurs and businesses focussing on sustainable transportation globally.

The Dial-a-rickshaw was introduced by a local NGO, the Graduate Welfare Association, Fazilka (GWAF), in 2008 to promote a non-motorised system. The aim was to fight global warming.

Out of the 15 final entries, the first three winners would be selected by online voting and the result would be declared on May 1. The first three awards would be conferred on the representatives of the projects at the UN Conference on Sustainability Development to be held in Rio de Janeiro, Brazil, on June 13.

"To be among the world's top 15 contenders for the prestigious award is a feat in itself. However, we need the support of Indian nationals to win the award. We urge them to vote online for Ecocabs Dial-a-Rickshaw, placed fourth on the list. A person can vote for three ventures. We hope India win the top three awards," said GWAF general secretary and in-charge of the project Navdeep Asija.

"The award can give the small town a brand new identity," hoped Asija.

Sunday, April 22, 2012

इकोकैब ने पूरी दुनिया में चमकाया फाजिल्का का नाम

अमृत सचदेवा, फाजिल्का
फाजिल्का की ग्रेजुएट वेलफेयर एसोसिएशन द्वारा तैयार की गई नए ढंग की रिक्शा जिसे इको कैब नाम दिया गया है, ने शहर का नाम पूरी दुनिया में रोशन कर दिया है। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन ने इकोकैब को दुनिया के 15 प्रमुख यातायात प्रोजेक्टों में शामिल किया है। इसके लिए करीब सौ देशों के यातायात प्रोजेक्टों के आवेदन आए थे। 15 वाहनों की सूची में फाजिल्का की इकोकैब चौथे स्थान पर है। प्रथम तीन स्थानों के लिए जारी ऑनलाइन वोटिंग के दौरान अगर यह प्रथम तीन प्रोजेक्टों में आती है तो फाजिल्का के मेयर (नगर परिषद अध्यक्ष) को ब्राजील बुलाकर सम्मानित किया जाएगा।
क्या है इकोकैब

फाजिल्का: देश भर में काम कर रहे लाखों रिक्शा चालकों की कमजोर सेहत और मोटर वाहनों के अंधाधुंध प्रयोग से बढ़ रहे प्रदूषण के मद्देनजर नई रिक्शा को पारंपरिक रिक्शा से कम वजन का बनाया गया है। इसमें यात्रियों के लिए एफएम रेडियो, पेयजल, बुजुर्गो के आसानी से चढ़ने के लिए नीचा प्लेटफार्म आदि खूबियां जोड़ी गई हैं। चार साल पहले इकोकैब निर्माण के साथ फाजिल्का में डायल-ए-रिक्शा प्रोजेक्ट भी शुरू किया गया था। इससे इकोकैब देश की पहली फोन के जरिये बुलाई जाने वाली रिक्शा सर्विस बन गई थी। इस रिक्शा का मकसद जहां रिक्शा चालकों का बोझ कम करना था वहीं लोगों को छोटे छोटे कार्यो के लिए मोटर वाहन के बजाय पब्लिक ट्रांसपोर्ट यानी रिक्शा के प्रयोग के लिए प्रेरित कर प्रदूषण से मुक्ति का था। बाद में यह सर्विस एंड्रायड एप्लीकेशन के साथ जोड़ दी गई। यह प्रोजेक्ट भी देश का पहला ऐसी परियोजना बना जिसमें यातायात के सबसे छोटे साधन में इस एप्लीकेशन का प्रयोग किया गया।
पर्यावरण प्रेमियों की अगली मंजिल ब्राजील

फाजिल्का : अमेरिका की मिशिगन यूनिवर्सिटी द्वारा इकोकैब को दुनिया के प्रमुख यातायात प्रोजेक्टों में शामिल किए जाने के बाद पर्यावरण प्रेमियों का अगला निशाना ब्राजील में होने वाली संयुक्त राष्ट्र कांफ्रेंस ऑन सस्टेनएबल डेवलपमेंट है। अगर ऑनलाइन वोटिंग के जरिये फाजिल्का इकोकैब जोकि चौथे पायदान पर है, प्रथम तीन प्रोजेक्टों में शामिल हो जाती है तो इस प्रोजेक्ट में सहयोग के लिए नगर परिषद अध्यक्ष अनिल सेठी को 13 जून 2012 को ब्राजील बुलाया जाएगा।

Saturday, April 21, 2012

इको रिक्शे से कर रहे पर्यावरण संरक्षण

मुख्य संवाददाता, फिरोजपुर : पर्यावरण संरक्षण के लिए लोग विभिन्न प्रयास कर रहे हैं। कोई पौधरोपण कर इसे सुरक्षित करने का प्रयास कर रहा है तो कोई किसानों को पराली जलाने से रोकने के लिए जागरूक कर रहा है। इन सबसे अलग बस्ती टैंकावाली से पांच बार पार्षद चुने जा चुके दयाल स्वरूप कालिया ने पर्यावरण संरक्षण की दिशा में नया काम किया है। वह इको रिक्शा के माध्यम से पर्यावरण को बचाने की कोशिश में जुटे हैं।

पार्षद दयाल स्वरूप कालिया वाहनों के धुएं को पर्यावरण प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण मानते हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए उन्होंने दो दिन पहले शहर में चलने के लिए 35 इको रिक्शों का प्रबंध किया है। उनका मानना है कि इससे एक तो गरीब रिक्शे वालों को रोजगार मिलेगा साथ ही पर्यावरण संरक्षण भी हो पाएगा। कालिया का कहना है कि वायु प्रदूषण में वाहन भी खासी भूमिका निभाते हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए उन्हें इको रिक्शे का आइडिया सूझा। ऐसे रिक्शों के ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल से जहां पेट्रोल की बचत होगी वहीं प्रदूषण भी नहीं फैलेगा। पर्यावरण बचाने के लिए इससे बेहतर और क्या जरिया हो सकता है। इसके अलावा गरीब लोगों को रोजगार मिलेगा। कालिया के अनुसार उन्होंने बैंक से बात कर 35 रिक्शे पास करवाए हैं। ताकि ये रिक्शा चालक ही कल को इनके मालिक बन सकें।

उनका कहना है कि पर्यावरण संरक्षण की पहल करते हुए लोगों को दो पहिया और चार पहिया वाहनों की निर्भरता कम करनी चाहिए। अधिक से अधिक पब्लिक ट्रांसपोर्ट का प्रयोग किया जाना चाहिए।

इस क्षेत्र में नहीं घुसती कोई कार

Dainik Jagran, 21 April 2012
अमृत सचदेवा, फाजिल्का : प्रशासन कानून बनाता है तो उसे मानने के लिए लोगों को बाध्य करता है, लेकिन फाजिल्का में स्थापित कार फ्री जोन ने मनवाने और मानने वालों के बीच छत्तीस के आंकड़े के मायने बदल दिए हैं। फाजिल्का के सूझवान लोगों ने प्रशासन की ओर से घंटाघर को कार फ्री जोन बनाने के फैसले को अपने प्रति एक अच्छा फैसला मानते हुए उसे स्वीकार किया है। यही कारण है कि फाजिल्का को देश का पहला कार फ्री जोन स्थापित करने का श्रेय मिला है।

फाजिल्का के घंटाघर चौक की तरफ जाने वाले तीन प्रमुख रास्तों होटलां बाजार, वूल मार्केट और सर्राफा बाजार में नगर परिषद ने ग्रेजुएट वेलफेयर एसोसिएशन के सहयोग से बेरीकेड्स लगा दिए हैं। सुबह आठ से शाम छह बजे तक बंद रहने वाले इन बेरीकेड्स में दिन के समय सिर्फ दुपहिया या रिक्शा आदि ही जा सकते हैं। इससे पहले जब तक बेरीकेड्स नहीं लगे थे, तब तक तीनों मार्गो और चौथी तरफ के बंद बाजार में आने वाली कारें, आटो, ट्रैक्टर-ट्राली आदि घंटाघर के निकट आकर एक दूसरे में इस कदर फंस जाते थे कि आधा-आधा घंटा जाम लगा रहता था। वहां एकत्रित वाहनों से जो प्रदूषण फैलता था, इससे एतिहासिक इमारत घंटाघर की खूबसूरती को भी नुकसान पहुंच रहा था। प्रदूषण के कारण लोगों का सास लेना मुश्किल होता था, सो अलग।
ऐसे आया कार फ्री जोन का उपाय

फाजिल्का : ग्रेजुएट वेलफेयर एसोसिएशन ने 2006 में करवाए पहले फाजिल्का हेरीटेज फेस्टिवल में साधू आश्रम को अस्थायी रूप से वाहनों के लिए बंद कर वाकिंग स्ट्रीट बनाया था। अक्टूबर 2007 में आयोजित फेस्टिवल में घंटाघर को अस्थायी रूप से कार फ्री जोन बनाया। उन तीन-चार दिन में वाहनों की परेशानी से मुक्त होकर घूमने वाले लोगों से यह आइडिया आया कि क्यों न घंटाघर चौक को स्थायी रूप से कार फ्री जोन बना दिया जाए। 2008 में नगर परिषद के अध्यक्ष बने अनिल सेठी ने एसोसिएशन की मंशा को समझा और अस्तित्व में आ गई कार फ्री जोन।
'पैंगुइन' ने फाजिल्का को बताया देश में अव्वल
फाजिल्का : इंटरनेशनल पब्लिशर्स पैंगुइन ने अपने 21 अप्रैल, 2010 के संस्करण में फाजिल्का को देश का पहला कार फ्री जोन घोषित किया है। इसी उपलब्धि के दम पर ग्रेजुएट वेलफेयर एसोसिएशन कार फ्री जोन बनाने वाले नगर परिषद अध्यक्ष अनिल सेठी को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर होने वाले 'बेस्ट मेयर' मुकाबले में नामांकित करने जा रही है।

Sanjha chulha: flame of shared cooking re- ignited

21 Apr 2012 Hindustan Times (Chandigarh)
Gaurav Sagar Bhaskar 

FEROZEPUR: "Sanjha chulha ( common oven)", the tradition of communities sharing joys and sorrows over cooking a meal, is back in the state.

Sanjha chulha brings together women from different communities to cook meal together on the common oven. It strengthens community bonds.

Recognising its importance beyond culture, the Graduates Welfare Association of Fazilka ( GWAF) and Guru Gobind Singh Youth Club have made 13 shared earthen ovens across Fazlika's suburban localities of Nai Abadi, Teachers Colony, Basti Chandora, Dhingra Colony, and Zora Singh Mann Nagar.

Sanjha chulha, ingredient of Punjabi tradition for ages; had lost fire of late. The GWAF'S efforts brought it back alive. It started with installing 6 ovens across Fazilka to help poor housewives cook meals twice a day. Seven more will open on Sunday ( April 22), Earth Day.

"In modern times, when the prices of cooking gas has shot up, sanjha chulha will help the poor cut costs," said Lachman Dost of the GWAF.

"Nearly 15 families can cook food on each oven, which is also eco- friendly."

The NGO'S message to the world is that it is concerned over global warming. "Fossil fuels release carbon dioxide, nitrogen, and other poisonous gases into the atmosphere," said Dost. "Sanjha chulha will reduce the burning of fossil fuels at home for cooking. Natural fuels such as wood and coal don't hurt the atmosphere. We will aid India's progress and see a change in people when they cook together."

Vote online: Green rickshaw in race for global award

Hindustan Times, 21 April 2012, Chandigarh Edition, Page 2

FEROZEPUR: Ecocab, a venture of the Graduates Welfare Association of Fazilka ( GWAF), is in the final 15 entries of SMART Mobility Enterprize Award 2012.

The award to be given away under the University of Michigan ( US) SMART Programme ( Sustainable Mobility, Accessibility Research, and Transformation) i s for best social entrepreneurs and businesses focused on sustainable transportation globally.
"Ecocab is a winner already for being among world 15 greenest projects," said Navdeep Asija, general secretary of the GWAF, "but to be in the top 3, it needs the votes of the online community." He made a vote appeal for "Ecocabs Dial- aRickshaw" programme, fourth on the l i st on the website mobiprize. com/ voting.
Each one can vote for three best projects. "Select G- Auto, second entry from India, so best three awards come to India," said Asija. "People's support will help out mission globally and give the small town of new popularity and identity."

In the past, Ecocab had won awards for the best Indian project in non- motorised transport ( NMT) class ( cash prize Rs 5 l akh) and being among the unique practices across India.

Project Fazilka Ecocabs got a boost when on April 28, 2010, the Punjab and Haryana high court took suo motu notice of a news report in an English daily and ordered the governments of Punjab and Haryana, and the administration of Chandigarh to implement the plan in various cities.
The Punjab heritage and tourism promotion board ( PHTPB) had also implemented the Ecocabs project in tourist cities such as Amritsar and Patiala. In both cities, Ecocab pilots are also trained to be tourism guides.

"Our city has set a new trend in local governance and community participation," said Anil Sethi, president of the Fazilka municipal council. "This award will affirm our commitment to community- based initiatives. Ecocabs i s an example of Gandhiji's idea of ' with less for more, for many'."

"Ecocab's green warriors pedal everyday for the sustainability of this planet, said Asija.

Thursday, April 19, 2012

झील को बचाने के लिए पुडा से छेड़ी जंग

अमृत सचदेवा, फाजिल्का

मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंजिल, लोग जुड़ते गए, काफिला बनता गया। यह कहावत चरितार्थ होती है पर्यावरण संरक्षण की दिशा में जुटे सिविल इंजीनियर नवदीप असीजा पर, जिन्होंने फाजिल्का क्षेत्र के एकमात्र प्राकृतिक स्त्रोत बाधा झील को बचाने के लिए पंजाब अर्बन डेवलपमेंट अथारिटी से जंग छेड़ दी।

असीजा द्वारा झील किनारे कालोनी काटने के विरोध में दायर याचिका का असर यह हुआ है कि हाईकोर्ट ने स्टेट्स को जारी कर दिया है वहीं हाईकोर्ट की ओर से ही झील क्षेत्र से संबंधित रिकार्ड मंगवाने पर वन विभाग ने कालोनी में लगे दरख्तों की निशानदेही शुरू कर दी है।

उल्लेखनीय है कि बाधा झील की जमीन, गांव बाधा की पंचायत की ओर से खेतीबाड़ी के लिए देने के विरोध में ग्रेजुएट वेलफेयर एसोसिएशन ने पिछले करीब चार साल से झील को सजीव करने का अभियान छेड़ रखा है। इसके तहत सांकेतिक कार्यक्रम के तहत स्कूली बच्चों ने झील पर जा अपनी वाटर बाटल्स का पानी खुद पीने की बजाय उसे झील में डाल प्रशासन से झील को सजीव करने की अपील की। जैन संतों ने झील में झील में जल प्रदान कर झील सजीव करने की कामना की। इसके बावजूद नगर परिषद ने मिनी सचिवालय निर्माण की एवज में एसडीएम आवास के निकट झील के किनारे स्थित करीब पांच एकड़ जगह पुडा को सौंप दी और पुडा ने कालोनी काटने के लिए ड्रा के लिए आवेदन मांगे थे। पुडा ने प्लाटों के ड्रा निकाल दिए तो खरीदारों की ओर से झील किनारे लगे दरख्त काटने की आशंका में ग्रेजुएट वेलफेयर एसोसिएशन ने चिपको आंदोलन छेड़ दिया। इस आंदोलन के तहत शहर के पर्यावरण प्रेमी वृक्ष कटाई के विरोध में उनसे लिपटकर खड़े हो गए थे। इसके बावजूद पुडा की ओर से प्लाटों का कब्जा ड्रा विजेताओं को देने की आशंका के चलते एसोसिएशन के सचिव नवदीप असीजा ने अपने स्तर पर हाईकोर्ट में याचिका दायर कर दी। इस पर हाईकोर्ट ने राज्य सरकार व वन विभाग को जंगलात महकमे की जगह बिना आब्जेक्शन सर्टिफिकेट के पुडा को सौंपने के बारे में जवाबतलबी की है। साथ ही स्टेट्स को आदेश दिए हैं, जिसके चलते पुडा ड्रा में निकाले प्लाटों का कब्जा देने से वंचित हो गई।

Tuesday, April 17, 2012

Take steps on straw burning: HC to Punjab, Haryana

To handle the rising menace of straw burning, the Punjab and Haryana High Court has called upon the state governments to encourage cardboard, paper and packaging industries to open up their centres in rural areas for farmers to sell the straw.
The directions were passed by a division bench comprising Chief Justice Ranjan Gogoi and Justice Mahesh Grover on two petitions filed by Captain Sarabjit Singh and advocate Jagmohan Singh Bhatti.

The High Court has also suggested setting up of cattle feed industry, as both paddy and wheat straw could be used for fodder.

The petitioners had sought formulation of a policy by Punjab and Haryana to ban the burning of wheat stubble, paddy straw and dry leaves.

"We will firstly underline that this is an issue where promulgation of a law banning such activity possibly may not yield the desired result. A fiat or a diktat by an authority necessarily involves penal consequences upon its violation and booking the farmers for violating the ban of burning of wheat straw/paddy straw would hardly be a situation which any government or a citizen would want. It has also to be understood that a farmer feeds a nation and, therefore, holding him responsible alone would not be an idea to relish," reads the judgment.

The judgment further reads, "The issue, therefore, has to be seen from the perspective where the society and the government, who are beneficiaries of the industrious activity of a farmer, take proactive measures by providing solutions to a farmer which are affordable and readily available and thus save both the farming community as also the general public from the hazards ensuing the polluting activity of burning straw."

Referring to technical steps such as easy availability of rotavator, zero-till drill and happy seeder, the Bench remarked "these are measures which provide alternatives to burning but are expensive and, therefore, the governments are required to take steps to make such machines available to the farmers. The governments can formulate and grant subsidies, long-term loans and encourage manufacturers in making these machines more competitive, which will result in fall of prices and make the machines more affordable".

Also, the High Court has suggested that the government can consider giving them incentive to manufacture the machines at affordable prices.

Saturday, April 14, 2012

Trade talk brings hope for Golden Track

FAZILKA: Punjab government's demand of re-opening Ferozepur and Fazilka border for trade and transit with Pakistan has rekindled hope among residents of these border districts for revival of trade activities. 

The re-opening of pre-partition rail link between Ludhiana and Karachi, popularly known as Golden Track, could change the fortunes of these border districts in particular and could also give considerably boost to trade activity in Punjab and northern India. 

The Golden Track, which ran between Ludhiana and Karachi via Ferozepur and Fazilka, was the most economically viable and shortest route on which trade activity flourished in pre-partition days as Karachi and Ludhiana were the hub of industry and trade in those days too. All the towns en route this rail link also contributed in a major way. Fazilka was one of the largest wool and cotton markets of the northern region in those days. Its trade activities extended up to erstwhile Burma (now Myanmar) and Liverpool in England through this route. 

This 1,000-km-long rail track was set up by the East India Company. The Indian raw material was transported through this rail link to Europe, Middle East, and Gulf countries. The areas surrounding Ludhiana, Ferozerpur, Fazilka (now in India) and Amruka, Samarsatta, Minchanabad, Hyderabad to Karachi port (now in Pakistan), which fall along this track, flourished. With the partition of the country, the link was snapped and it had a telling effect on the economy of these places. 

Wednesday, April 11, 2012


Jalalabad (Punjab), Apr 11 : The Punjab government today made a fresh appeal to the Centre to open Fazilka and Ferozepur borders with Pakistan to boost bilateral trade between the two nations.

"I would personally raise this issue (opening of Fazilka and Ferozepur borders) with Union Home Minister P Chidambaram on April 13 during the inaugural ceremony of Integrated Check Post at Attari-Wagah border in Amritsar," Deputy Chief Minister Sukhbir Singh Badal told reporters here.

He said once thriving business towns, these cities have suffered a lot with the closure of trade routes and industry also has shunned the area, being a border region.

He said the integrated check post if fully utilised would change the economic profile of the landlocked border state.

He said it was imperative to make Attari-Wagah, a gateway to trade with Afghanistan and other central Asian countries.

Demanding a liberalised visa regime for Indian and Pakistani traders, Badal said to get optimum benefit of integrated check post, central government must strive for making suitable changes in visa rules especially for traders and investors.


Tuesday, April 10, 2012

Fazilka Rattan Award bestowed on Dr Dhawan - The Tribune

Our Correspondent,  The Tribune, Page 3, Bathinda Edition, Punjab

Fazilka, April 9
On the concluding night of the four-day Fazilka Heritage Festival on Sunday, thousands of residents took pledge to fight against female foeticide, other social evils and global warming.

A Noel Deerr Award-recipient and agricultural scientist Dr Ashok Dhawan of Fazilka was conferred the "Fazilka Rattan" award. Dr Dhawan, a former director of the Regional Research Station, Agriculture University, Hisar, was conferred the award for his research on Sugarcane. Former President of India Dr APJ Abdul Kalam had presented the Noel Deerr Award to Dr Dhawan during the inaugural ceremony of the annual convention of the Sugar Technologists Association of India (STAI) held in Udaipur on August 26, 2009.

The last night of the heritage festival was dedicated to the youth empowerment and nine youngsters from the district were honoured on the occasion. The festival was organised by the Graduates Welfare Association, Fazilka (GWAF), in association with the Punjab Heritage and Tourism Board.

A Fazilka resident Pankaj Verma, who is posted as judicial magistrate at Barnala, was presented the Fazilka Youth Icon Award. A road safety expert and GWAF general secretary Navdeep Asija was conferred the "Son of Fazilka" award.

Awaz-e-Punjab Gurnam Bullar, a renowned musician Pardeep Sran and all-rounder musical performer and in-charge of the Ibadat Musical Group Harsh Dimpu, radiologist and singer Dr Vivek Kareer and engineer Nitin Setia were among those honoured.

The chief guest of the programme, Fazilka MLA and Forest Minister Surjit Kumar Jyani, Fazilka ADC Charandev Singh Maan, District Education Officer Sandeep Dhuria, GWAF patron Dr Bhupinder Singh and president of the association Umesh Chander Kukkar gave away the awards.

"Aam Aadmi", a drama presented by the members of the Creative Art Group of Abohar highlighted the problem of inflation. The drama, a satire on politicians who use the common man for their vested interests, won applause from the audience in a jam-packed Partap Bagh, the venue of the festival.

Members of the Shan-e-Khalsa Gatka Academy, Fazilka, demonstrated their martial skills on the concluding night.

The Crime Prevention Group, Fazilka, organised a body-building show.

प्रतिभाओं के सम्मान के साथ विरासत महोत्सव संपन्न

जागरण संवाददाता, फाजिल्का : ग्रेजुएट्स वेलफेयर एसोसिएशन की ओर से आयोजित चार दिवसीय फाजिल्का विरासत मेले का रविवार रात समापन हो गया। इस मौके पर वन व श्रम मंत्री सुरजीत कुमार ज्याणी बतौर मुख्यातिथि पहुचे।

इबादत ग्रुप ने धार्मिक गीत से कार्यक्रम का आगाज किया। इसके बाद ग्रुप ने छल्ला गीत पेश कर वाहवाही बटोरी। शान-ए-खालसा ग्रुप की ओर से पेश किया गया गतका आकर्षण का केंद्र रहा। अबोहर ग्रुप की ओर से पेश किए गए नाटक 'आम आदमी' से सियासत पर कटाक्ष किए गए। दोस्त ग्रुप की ओर से पेश 'भोले की बारात' भी सराहनीय रही। इस दौरान आल इडिया क्राइम प्रवेंशन बोर्ड की ओर से बॉडी बिल्डरों का फैशन शो करवाया गया। रेडियंट इस्टीट्यूट ऑफ इजीनियरिंग कालेज एंड टेक्नोलाजी की ओर से कोरियोग्राफी पेश की गई। फ्रेंड्स क्लब ने हिप हॉप गीत पेशा किया। कार्यक्रम के अंत में लाधूका की टीम ने झूमर पेश किया। इस बीच फाजिल्का के इतिहास से संबंधित प्रश्न पूछे गए और सही जवाब देने वालों को पुरस्कृत किया गया।

मुख्यातिथि सुरजीत ज्याणी ने एसोसिएशन के कार्यक्रमों की सराहना की। उन्होंने कहा कि जिस क्षेत्र के इतिहास की लोगों को जानकारी होती है वह क्षेत्र हमेशा आगे बढ़ता है। ज्याणी ने एसोसिएशन को पांच लाख रुपये देने की घोषणा की। जबकि जमींदारा फार्मास्लयूशन के डायरेक्टर सुरिन्द्र आहूजा ने 11 हजार रुपये देने का एलान किया। गवफ के सचिव नवदीप असीजा व पीआरओ लछमण दोस्त ने बताया कि इस दौरान देश विदेश में क्षेत्र का नाम रोशन करने वाले युवाओं को सम्मानित किया गया। उन्होंने बताया कि मजिस्ट्रेट का पद हासिल करने वाले फाजिल्का के पंकज वर्मा की पहली पोस्टिग बरनाला में हुई है, को 'यूथ आइकान' अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा। रेडियोलाजिस्ट व सिंगर डॉ. विवेक करीर, इबादत बैंड के संचालक हर्ष कुमार डिंपू, अवाज-ए-पंजाब गुरनाम भुल्लर, वायस आफ पंजाब प्रदीप सरा, 2011 में सेमसंग इंप्लाइज आफ दि ईयर अवार्ड हासिल कर चुके नीतिन सेतिया को भी यूथ आईकान अवार्ड से नवाजा गया। जबकि एग्रीकल्चर साइंटिस्ट डा. अशोक धवन को फाजिल्का रतन दिया गया।

Monday, April 9, 2012

महिलाओं के नाम रही तीसरी नाइट

फाजिल्का विरासत मेले की तीसरी रात महिलाओं के नाम रही। ग्रेजुएट्स
वेलफेयर एसोसिएशन द्वारा प्रताप बाग में आयोजित मेले में शनिवार को
महिलाओं ने अपनी कला के जौहर दिखाए। कार्यक्रम का आगाज रिटायर्ड
प्रिंसिपल प्रीतम कौर और समाजसेविका शशि आहूजा, सुदेश नागपाल, लीला असीजा
व रेणुका ने दीप प्रज्वलित करके किया। शुरूआत में युवाओं ने मां को
समर्पित गीत से दर्शकों को भाव-विभोर कर दिया। इसके बाद कौटिल्य
इंटरनेशनल स्कूल की नन्ही बच्चियों ने डांडिया से दर्शकों को मन मोहा।
मंच संचालन कर रहे नितिन सेतिया व डॉली ने फाजिल्का के इतिहास से संबंधित
प्रश्न पूछे और सही जवाब देने वालों को पुरस्कारों से नवाजा। दोस्त ग्रुप
ने पंजाबी गीत न कर सस्से पुत्र-पुत्र पर जमकर धमाल मचाया। लट्ठे दी चादर
गीत पर कोरियोग्राफी ने भी उपस्थित लोगों को कार्यक्रम से बांधे रखा।
वहीं श्री गुरु गोबिंद सिंह यूथ क्लब ने कोरियोग्राफी के जरिए सामाजिक
बुराइयों पर कटाक्ष किए। रमन झांब ने कन्या भू्रण हत्या पर जब कविता
सुनाई तो हर चेहरे पर चिंता की लकीरें थी। कार्यक्रम के अंत में लड़कियों
के सीनियर सेकंडरी स्कूल की छात्राओं द्वारा पेश किया गया गिद्दा भी
लोगों के लिए आकर्षण बना। इस दौरान लछमण दोस्त ने कहा कि फाजिल्का की
धरोहर घंटा घर के स्थापना दिवस के दिन फाजिल्का के इतिहास, वर्तमान और
भविष्य पर आधारित पुस्तक रिलीज की जाएगी। इसके बाद क्षेत्र का नाम रोशन
करने वाली युवतियों और महिलाओं पर पुस्तक लिखने का भी वादा किया गया। इस
मौके पर गवफ संरक्षक डॉ. भूपिन्द्र सिंह, प्रधान एडवोकेट उमेश कुक्कड़,
सचिव नवदीप असीजा, पंकज धमीजा, रवि खुराना, प्रफुल्ल नागपाल आदि उपस्थित

Fazilka felicitates its daughters

Fazilka, April 8, 2012
Dedicating the third night of the Fazilka heritage festival to "Nari
Shakti" (women empowerment), the organisers honoured four girls, who
had brought laurels to this border town.

The four-day event is being organised by the Graduate Welfare
Association, Fazilka (GWAF), in association with the Punjab Heritage
and Tourism Board.

Sandhya Kataria, a commissioned officer in the Indian Army who joined
as a lieutenant last year and was promoted to the rank of captain
within three weeks of her first assignment, was among those honoured.
Since she could not turn up to take the award, her grandfather Kishore
Chand Poonchhi and father Rajinder Kataria received it on her behalf.

Sukhwinder Kaur of nearby Senia village, who had won half a dozen
medals in wrestling at national and state-level championships, was
felicitated with the title of the "Daughter of Fazilka". She bagged
silver medals in national wrestling championships held at Aurangabad
and Jalandhar and won two gold medals during state-level championships
held in Chandigarh.

Sandeep Kaur, a resident of local Kailash Nagar, who was conferred the
Mother Teresa Award in the field of culture and education by the Sarv
Shiksha Abhiyan last year, was also honoured on the occasion.

Another girl to be honoured was Manveer Kaur of Chaurianwali village.
Her achievements included a bronze medal in the Asian Archery
Championship held at Myanmar, a gold medal in junior archery
championship held in Sikkim, a gold medal in national games held at
Guwahati and the South Asian Archery Championship held at Tata Nagar.

The awards were presented by senior woman citizens of Fazilka,
including retired principal Pritam Kaur, patron of Stri Arya Samaj
Sudesh Kumari Nagpal and social activist Shashi Ahuja besides the
office-bearers and members of the GWAF, including Dr Bhupinder Singh,
Navdeep Asija, Umesh Chander Kukkar, Surinder Kumar Ahuja, Lachhman
Dost, Nitin Setia, Pankaj Dhamija and Dolly.

Renuka, an archery coach, was also honoured for training nearly half a
dozen players who performed at national and state-level events in the
recent years. US-based Vinod Aggarwal presided over the programme.

Ranuka Jhinga, the founder president of the Baba Bholla Giri Gramin
Mahilla Utthan Sansthan, exhorted the audience, women in particular,
to come forward to curb the menace of female foeticide.

A choreography on the menace by students of Lachhman Dost School,
'giddha' by students of Government Girls Senior Secondary School and
cultural programmes by students of Kotilaya International School, Guru
Gobind Singh Youth Club and Shining Public School regaled the

विरासत मेले में महिलाओं ने दिखाई प्रतिभा

Dainik Jagran, 9th April 2012
अमृत सचदेवा, फाजिल्का : ग्रेजुएट्स वेलफेयर एसोसिएशन द्वारा प्रतापबाग
में आयोजित फाजिल्का विरासत मेले में शनिवार की रात महिलाओं के नाम रही।
कार्यक्रम का आगाज रिटायर्ड प्रिंसिपल प्रीतम कौर और समाजसेविका शशि
आहूजा, सुदेश नागपाल, लीला असीजा व रेणुका ने दीप प्रज्ज्वलित करके की।

कार्यक्रम की शुरुआत में युवाओं ने मा को समर्पित गीत प्रस्तुत किया।
इसके बाद कौटिल्य इटरनेशनल स्कूल की नन्ही बच्चियों ने डांडिया पेश कर
उपस्थिति लोगों को भावविभोर कर दिया। मंच का संचालन कर रहे नीतिन सेतिया
व डाली ने फाजिल्का के इतिहास से संबंधित प्रश्न पूछे और सही जवाब देने
वालों को पुरस्कार प्रदान किया। इसके बाद दोस्त ग्रुप ने पंजाबी गीत न कर
सस्से पुत्र-पुत्र से धूम मचाई। शाइनिंग पब्लिक स्कूल की छात्राओं ने
लट्ठे दी चादर गीत पर कोरियोग्राफी पेश कर पंजाब की विरासत की झलक पेश
की। श्री गुरु गोविंद सिंह यूथ क्लब ने कूड़ प्रधान गीत पर कोरियोग्राफी
के जरिए समाजिक बुराइयों पर कटाक्ष किए। रमन झाब ने कन्या भू्रण हत्या पर
कविता प्रस्तुत की। समापन अवसर पर लड़कियों के सीनियर सेकेंडरी स्कूल की
छात्राओं का गिद्दा भी आकर्षण का केंद्र रहा। एसोसिएशन के पीआरओ लछमण
दोस्त ने फाजिल्का की धरोहर घटाघर की स्थापना, फाजिल्का के इतिहास,
वर्तमान और भविष्य पर आधारित पुस्तक व क्षेत्र का नाम रोशन करने वाली
युवतियों और महिलाओं पर पुस्तक लिखने की घोषणा की। कार्यक्रम में संरक्षक
डा. भूपिंद्र सिंह, प्रधान एडवोकेट उमेश कुक्कड़, सचिव नवदीप असीजा, पंकज
धमीजा, रवि खुराना, प्रफुल्ल नागपाल आदि उपस्थित थे।


संदीप, मनवीर, संध्या व सुखविंदर को यूथ आईकान अवार्ड

फाजिल्का : मेले के दौरान क्षेत्र का नाम देश विदेश में चमकाने वाली
युवतियों को यूथ आईकान अवार्ड से सम्मानित किया गया। सचिव नवदीप असीजा ने
बताया कि सम्मानित होने वाली तीरंदाज मनवीर कौर ने राष्ट्रीय और
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुकी है। कैप्टन संध्या
कटारिया सेना में भर्ती होकर देश की सेवा कर रही हैं। संदीप कौर ने
समाजसेवा के क्षेत्र में अहम योगदान दिया है। जबकि सुखविंद्र कौर ने
कुश्ती के क्षेत्र में नाम कमाया है।

As Punjab drags its feet, an NGO starts a heritage festival

Raakhi Jagga, Indian Express, Page 4, 9th April 2012
Fazilka Though the Department of Tourism is still working on the rural tourism project for Fazilka, the Graduates Welfare Association of Fazilka (GWAF), an NGO, has been making an independent effort for the past six years to boost rural tourism in the district. The four-day Heritage Festival of Fazilka concluded, on Sunday, and registered close to 5,000 people each day. This was the first heritage festival, after Fazilka attained district status.
Jhoomar, a traditional dance, was the main attraction of the festival apart from the performance by Ibadat - the Fazilka rock band. Food stalls of border area were the main source of income to sustain the festival, which was organised at the Sanjay Gandhi memorial park.

Navdeep Asija, secretary administration of GWAF said, "We want to promote the uniqueness of our district. We are making our own efforts to boost tourism, till the time the government takes similar steps. Many NRIs also came to be part of the festival." Vinod Gupta, an NRI from Chicago, gave a donation of $ 250 to GWAF for women empowerment projects.

A stall of old newspapers was also set up in which newspapers published before independence were displayed. Urdu newspaper collection, old coins, art and craft items were also part of the show.

The platform was also used to honour local achievers like Manveen Kaur, an archery expert, Sukhwinder Kaur, multiple winner in wrestling tournaments and Sandhya, who was promoted to rank of Captain in the Army. "The main aim of our heritage festival is to promote Fazilka's rich culture and heritage worldwide," said Asija.

The Fazilka heritage festival helped Fazilka establish the country's first car-free zone and launched Fazilka Ecocab-Nano.

Sunday, April 8, 2012

कलाकारों ने बिखेरे कला के रंग

Dainik Bhaskar, 8th April 2012

फाजिल्का विरासत महोत्सव की दूसरी नाइट जिला फाजिल्का को समर्पित रही। वन एवं श्रम मंत्री सुरजीत कुमार ज्याणी कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे। जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता नगर कौंसिल अध्यक्ष अनिल कुमार सेठी ने की। इस अवसर पर नीलाम घर का आयोजन कर फाजिल्का के इतिहास से संबंधित प्रश्न पूछे। कार्यक्रम की शुरूआत में कृष्ण शांत ने जहां सितार वादन किया वहीं दि सोल ऑफ फाजिल्का इबादत बैंड ने सुरीली आवाज से दर्शकों का मन मोह लिया। वहीं अक्स अबोहर की ओर से नशे की बुराई पर आधारित नाटक से नशा छोडऩे की शिक्षा दी गई। इसके बाद दोस्त ग्रुप की ओर से आओ तुम्हें चांद पे ले जाएं और धरती देश पंजाब दी पर डांस कर दर्शकों की वाहवाही लूटी। फ्रैंड्स क्लब की ओर से कोरियोग्राफी की सराहना की गई। कार्यक्रम के अंत में बाबा पोखर दास सभ्याचारक ग्रुप की ओर से कुलवंत सिंह के नेतृत्व में झूमर पेश की गई। इस बीच पद्म भूषण अवार्डी पुष्पा हंस और 1971 के भारत पाक युद्ध में अहम भूमिका निभाने पर पद्म भूषण अवार्ड प्राप्त सुरिन्द्र सिंह बेदी को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। 
जिले के नायक सम्मानित 
फाजिल्का को जिला बनाने की मांग को लेकर धरना, हड़ताल और मरणव्रत रखा गया। क्षेत्रवासियों के अलावा मंत्री ज्याणी ने नायक की भूमिका निभाई और मरणव्रत पर बैठे। इसके चलते सुरजीत ज्याणी के अलावा सांझा मोर्चा के अध्यक्ष एडवोकेट सुशील गुंबर, कामरेड शक्ति आदि को सम्मानित किया गया। 
छह युवाओं को मिलेगा यूथ आइकॉन

गवफ की ओर से रविवार की नाइट युवाओं को समर्पित होगी। इस दौरान क्षेत्र के 6 युवाओं को यूथ आइकॉन अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा। 40 साल के इतिहास में पहली बार मजिस्ट्रेट बने फाजिल्का के पंकज वर्मा, जो इस समय चंडीगढ़ के ज्युडिशियल एकेडमी में ट्रेनिंग कर रहे हैं और उनकी पहली पोस्टिंग बरनाला में हुई है, को सम्मानित किया जाएगा। रेडियोलोजिस्ट व सिंगर डॉ. विवेक करीर, इबादत बैंड के संचालक हर्ष कुमार डिम्पू, अवाजे पंजाब गुरनाम भुल्लर, वायस ऑफ पंजाब प्रदीप सरां, 2011 में सेमसंग इम्प्लाइज ऑफ दि ईयर अवार्ड हासिल कर चुके नितिन सेतिया, एग्रीकल्चर साइंटिस्ट डॉ. अशोक धवन को यूथ आइकॉन अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा।

FAZILKA HERITAGE FESTIVAL : 2nd night dedicated to Fazilka stars

Our Correspondent
Fazilka, April 7 2012

The second night of the Fazilka Heritage Festival began with students singing Padma Shri Pushpa Hans's two famous songs — "Chan kithan gujari sari raat ve" and "sari raat tera takni ha raah tarean to puchh chann ve".

The night was dedicated to Padma Bhushan late Kanwar Surinder Singh Bedi, a bureaucrat, and Fazilka-born Padma Shri Pushpa Hans.

Padma Shri Hans, a heartthrob of millions of cinema fans in the 40s and the 50s, had acted in movies and also did playback singing.

Hans contributed immensely to the cause of Punjabi folk and classical music. She was conferred the Padma Shri in 2007.

Fazilka's son late Kanwar Surinder Singh Bedi was awarded the Padma awards twice, Padma Shri in 1966 and the Padma Bhushan in 1972, for playing an important role as the Deputy Commissioner of Amritsar during the two wars against Pakistan.

Besides, the organisers of the festival, the Graduates Welfare Association, Fazilka, (GWAF), honoured the chief guest at the programme on the second night, the Fazilka MLA and Forest Minister Surjit Kumar Jyani, for his key contribution towards raising the status of Fazilka sub-division to that of district headquarters, six months back.

Further, members of the Sanjha Morcha, including Sushil Gumber, Raj Kishore Kalra, Satish Dhingra, Shakti Singh and others, who led the agitation for Fazilka's district status, were also felicitated.

On the occasion, internationally famous Krishan Shant Guru Ji played guitar and his son Harsh Shant performed on tabla. Jhoomar dance performance enthralled the audience. Members of the Abohar-based theatre group, the Aks, staged a drama 'Vaapsi' (return) with the theme of quitting drugs.

GWAF general secretary Navdeep Asija said the Sunday night would be dedicated to the youth who bought laurels to this town, including magistrate Pankaj Verma, radiologist and singer Dr Vivek Kareer, Awaz-e-Punjab award recipient Gurnam Bhullar, the Voice of Punjab award winner Pardeep Sran, the Samsung Award of the year winner Nitin Setia and agricultural scientist Dr Ashok Dhawan.

फाजिल्का जिले को समर्पित रहा हेरीटेज फेस्टिवल

अमृत सचदेवा, फाजिल्का, Dainik Jagran

ग्रेजुएट्स वेलफेयर एसोसिएशन फाजिल्का द्वारा शुरू की गई फाजिल्का विरासत महोत्सव की दूसरी रात फाजिल्का जिला को समर्पित रही, में पूरा आयोजन स्थल एक परिवार की मानिंद सजा। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि वन एवं श्रम मंत्री सुरजीत ज्याणी थे। जबकि अध्यक्षता नगर पालिका अध्यक्ष अनिल सेठी ने की।

शुरुआत में फाजिल्का रत्न प्रो. कृष्ण शात ने सितार वादन से समां बांधा। नीलाम घर में फाजिल्का के इतिहास से संबंधित प्रश्न पूछे गए। सूफियाना ग्रुप इबादत बैंड ने अपनी प्रस्तुतियों से दर्शकों का मन मोहा। अक्स अबोहर द्वारा नशे की बुराई पर आधारित नाटक से नशा छोड़ने की शिक्षा दी गई। दोस्त ग्रुप ने आओ तुम्हे चाद पे ले जाएं और धरती देश पंजाब दी पर कोरियोग्राफी पेश की। फ्रैंड्स क्लब के हिप हाप ने युवाओं को रोमांचित किया। वहीं जस्सल अंपायर ग्रुप ने पंजाबी धुनों पर डांस कर जोश भरा। अंत में बाबा पोखर दास सभ्याचारक ग्रुप की ओर से कुलवंत सिंह के नेतृत्व में झूमर पेश किया गया। इस मौके पर परमजीत ¨सह वैरड़, जगदीश सेतिया, बलजीत सहोता, डा. भूपिन्द्र सिंह, एडवोकेट उमेश कुक्कड़, प्रफुल्ल नागपाल, सेठ सुरेन्द्र आहूजा, रिटायर्ड प्रिंसिपल प्रीतम कौर, कृष्ण तनेजा, गगनदीप सिंह, लछमण दोस्त, पंकज धमीजा, रवि खुराना आदि मौजूद थे। मंच संचालन नीतिन सेतिया ने किया।

जिला नायक की उपाधि से नवाजे गए ज्याणी

फाजिल्का: जिले की माग को लेकर अपनी ही सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे सुरजीत ज्याणी को जिला नायक की उपाधि प्रदान की गई। ज्याणी ने कहा कि संघर्ष में क्षेत्रवासियों का अहम रोल रहा है। ज्याणी के अलावा साझा मोर्चा के अध्यक्ष एडवोकेट सुशील गुंबर, सतीश धींगड़ा, कामरेड शक्ति, राजकिशोर कालड़ा आदि को भी सम्मानित किया गया।

बिछुड़ों को याद किया

फाजिल्का: कार्यक्रम में पदम भूषण अवार्डी पुष्पा हंस और 1971 के भारत पाक युद्ध में अहम भूमिका निभाने पर पदम भूषण अवार्ड प्राप्त सुरिन्द्र सिंह बेदी को श्रद्धाजंलि अर्पित की गई।

हग ट्री हग लाइफ टी-शर्ट लांच

फाजिल्का: कार्यक्रम में जमींदारा फार्मासाल्यूशन के डायरेक्टर सुरिन्द्र आहूजा ने हग ट्री हग लाइफ टी शर्ट लाच की। टी शर्ट पर क्षेत्र को हरा भरा रखने का संदेश दिया गया है।

.आरटीआई से निकली हरियाली की पौध

अमृत सचदेवा, फाजिल्का

कौन कहता है कि आसमां में छेद नहीं होता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो..यह कहावत फाजिल्का के सेठ सुरेंद्र आहूजा पर बिल्कुल सही साबित होती है जिनके प्रयासों से अब तक दस हजार पौधे लगाए जा चुके हैं। हालांकि इससे पहले वन विभाग कहता आ रहा था कि पौधरोपण के लिए जगह ही नहीं है।

फाजिल्का में जारी हैरिटेज फेस्टिवल में शुक्रवार रात इंजीनियर नवदीप असीजा ने बताया कि फाजिल्का से निकली अस्पाल ड्रेन के किनारों पर निकाली गई मिट्टी के कारण आसपास का माहौल धूल भरा बना रहता था। इसे देखते हुए सुरेंद्र आहूजा ने वन विभाग को पत्र लिखकर यहां पर पौधे लगाने की मांग की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। जून 2010 में आहूजा ने एक कोर्ट केस में वन विभाग द्वारा यह बयान दिए जाने कि विभाग के पास पौधे लगाने के लिए जगह नहीं है, पर आरटीआई के तहत जानकारी मांगी, जिसमें फाजिल्का के सेमनालों के आसपास लाखों वृक्ष लगाए जाने की जगह होने की जानकारी दी गई। आहूजा ने इसकी जानकारी भी वन विभाग को दी, लेकिन कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। बता दें कि सेमनाले बनाने के बाद ड्रेनेज विभाग इनके किनारे की जमीन को वन विभाग को सौंप देता है।

आखिरकार आहूजा इस मामले को स्टेट इंफर्मेशन कमीशन तक ले गए। स्टेट इंफर्मेशन कमीशन ने वन विभाग को जून 2011 में तलब किया। आहूजा ने बताया कि स्टेट कमीशन के समक्ष पेश होने से पहले ही विभाग ने फुर्ती दिखाते हुए अस्पताल ड्रेन के किनारे पौधरोपण शुरू कर दिया और अब तक करीब 10 हजार वृक्ष लगाए जा चुके हैं।

आहूजा ने कहा कि आरटीआई एक्ट की बदौलत ही क्षेत्र में हरियाली आनी शुरू हुई है, लेकिन अभी भी फाजिल्का में सेमनालों के किनारों पर इतनी अधिक जगह है कि एक लाख वृक्ष और लगाए जा सकते हैं। इसके लिए वह लगातार आरटीआई के जरिये संघर्षरत हैं। आहूजा ने बताया कि अंबाला से जालंधर नेशनल हाइवे को चौड़ा करने के दौरान जो लाखों वृक्ष काटे गए थे, उसकी भरपाई के लिए पीडब्ल्यूडी ने करीब 50 करोड़ रुपया राज्य सरकार के पास जमा करवा रखा है। उस पैसे का फायदा तभी है जब उसका प्रयोग पौधरोपण के लिए हो।

आहूजा ने फेस्टिवल में मौजूद वन मंत्री व स्थानीय विधायक सुरजीत ज्याणी से भी उक्त पैसे का सदुपयोग फाजिल्का व अन्य क्षेत्रों में हरियाली लाने के लिए करने की अपील की।

Saturday, April 7, 2012

सूफियाना प्रोग्राम से हेरिटेज फेस्टिवल का आगाज

अमृत सचदेवा, फाजिल्का, Dainik Jagran, 7 April 2012

ग्रेजूएट्स वेलफेयर एसोसिएशन की ओर से फाजिल्का विरासत महोत्सव का आगाज वीरवार रात सूफियाना अंदाज में किया गया। मुख्यातिथि नगर परिषद अध्यक्ष अनिल सेठी व अध्यक्षता कर रहे प्रेस कौंसिल के प्रधान प्रफुल्ल नागपाल व पार्षद अरूण वधवा ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम शुरू किया।

आयोजन में पंजाब विरासत व पर्यटन विकास बोर्ड, नगर परिषद, शहीद भगत सिंह स्पो‌र्ट्स क्लब, सरहद सोशल वेलफेयर सोसायटी, टी-ट्वेंटी क्रिकेट क्लब, क्राइम प्रिवेंशन आर्गेनाइजेशन व जिला प्रशासन भी सहयोग कर रहे हैं। फेस्टिवल की पहली रात का आगाज सूफियाना ग्रुप इबादत ने कलाम प्रस्तुत कर श्रोताओं का मन मोह लिया। इसके बाद 'आवाज पंजाब दी' गुरनाम भुल्लर ने धार्मिक गीत, ज्योति किड्स केयर होम के बच्चों ने 'सेव ट्री एंड वाटर', 'बाल मजदूरी', 'बाल विवाह', 'महगाई', 'भू्रण हत्या' और 'भ्रष्टाचार' के खिलाफ कोरियोग्राफी प्रस्तुत की। गुरु गोबिंद सिंह यूथ क्लब ने 'साडे ही पैसे नाल सरकारा चलदिया' ने गीत पर कोरियोग्राफी पेश कर रिश्वतखोरी दूर करने का संदेश दिया। 'नीलाम घर' का आयोजन किया गया। मुख्यातिथि व अन्य मेहमानों को स्मृति चिन्ह भेंट किए गए। मंच संचालन रवि खुराना और डोली ने किया।

इस मौके पर रिटायर्ड प्रिंसिपल प्रीतम कौर, परमजीत सिंह वैरड़, गगनदीप, जसविन्द्र सिंह चावला, पीआरओ लछमण दोस्त, पंकज धमीजा आदि उपस्थित थे।

घनश्याम शर्मा को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड

फाजिल्का: फेस्टिवल की पहली रात संजीव सिनेमा में पिछले 34 साल से फिल्में चलाने वाले घनश्याम शर्मा को लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड दिया गया। एसोसिएशन के संरक्षक डा. भूपिन्द्र सिंह ने जिला फाजिल्का को ग्राीन एंड क्लीन बनाने, प्रधान उमेश कुक्कड़ ने बाधा झील बचाने के लिए आगे आने व सचिव नवदीप असीजा ने युवा वर्ग को समाजसेवा का संदेश दिया।

आज सम्मानित होंगी महिला प्रतिभाएं

फाजिल्का: सचिव असीजा ने बताया कि शनिवार को पुष्पा हस नाइट में तीरंदाज मनवीर कौर, कैप्टन संध्या कटारिया, मदर टेरेसा अवार्डी संदीप कौर और कुश्ती खिलाड़ी सुखविन्द्र कौर को सम्मानित किया जाएगा।

Fazilka heritage festival opens, calls for saving ecology

Praful Chander Nagpal

Fazilka, April 6
Fazilka's famous heritage festival, a four-day art and cultural extravaganza, began with much fanfare on Thursday night. The theme of the event this year is saving water, trees, earth, energy, fight against social evils and promoting rich heritage of this historical town.

On the inaugural day, a new slogan "Hug Trees Hug Life" was given to the society with an aim to protect the green cover from further damage.

The sixth heritage festival is being organised by the Graduate Welfare Association, Fazilka (GWAF), in association with the Punjab Heritage and Tourism Promotion Board.

"This event will not only promote the vibrancy of Fazilka's culture and Punjabiat in the border region of Punjab but will also help in establishing Fazilka as a brand city," hoped Dr Bhupinder Singh, patron of the GWAF. Municipal Council president Anil Sethi inaugurated the festival by lighting a lamp.

Ghanshayam Sharma, who successfully performed as a projector man for 34 years in the local Sanjeev Cinema, was conferred with the Life Time Achievement Award by GWAF president Umesh Chander Kukkar, general secretary Navdeep Asija, working president Pritam Kaur, Shaheed Bhagat SinghYouth Club president Pamma Warer and others.

On the occasion, the historical building of the Fazilka clock tower (a car free zone area) was illuminated. Youths danced till midnight to the live rock band performances in front of the clock tower.

In a stage performance, tiny-tots of the Joyti Kids Care Home exhorted the gathering to save trees, water, stop using polythene, checking female foeticide, child labour and child marriage besides conserving fuel and energy, and using solar equipment. They also denounced inflation, corruption and other social evils.

Performances by the Ibadat Musical group of Fazilka, Gurnam Bhullar, the recipient of the Nikki Awaz Punjab Di and Awaz-e-Punjab award by a Punjabi television channel, and a drama enacted by the artistes of the Guru Gobind Singh Yourth Club mesmerised the audience till midnight.

Fazilka festival begins, celebrations special this year- Hindustan Times

Gaurav Sagar Bhaskar, Hindustan Times, 7th April 2012- Bathinda Edition

FEROZEPUR: The sixth Fazilka Heritage Festival, annual art, food, and cultural extravaganza of the region, opened on Thursday night.

The Graduates Welfare Association of Fazilka ( GWAF) and local administration are partners in the venture. The festival will promote Fazilka's culture and heritage worldwide and the Punjabi language in the border region.

" Another mission behind the event is to position the city of Fazilka as a brand," said Navdeep Asija, general secretary of the GWAF. The branding will support the local handicrafts, workmanship, sweet makers, which will create jobs through tourism in the region.

The focus this year is on rural tourism. Anand Utsav last year had received backing from the Punjab Heritage and Tourism Promotion Board ( PHTPB). " Again, the board is out in support," said Bhupinder Singh, patron of the GWAF. " Already, the GWAF works with the Punjab tourism department as adviser for implementing the ' ecocab- dial a rickshaw' concept in various cities."

The festival highlights this year will be nights dedicated to the youth, women, and armed forces. " At Sanjay Gandhi Memorial Park, Fazilka, we have divided 5 acres into art, food and cultural zones," said Umesh Kukkar, president of the GWAF. In the food zone, visitors can savour the taste of the border region. The clock tower city centre has been decorated and music will play there continuously during the celebrations.

The heritage festival already has helped Fazilka create country's first car- free zone. Last year, Ecocab- Nano was launched at this event only. The food street concept from Fazilka was implemented in state capital Chandigarh. Fazilka's concept of " social infrastructure building through festivals" is being included in the curriculum of the department of transport, and the University of Technology, Vienna, in Austria.

It's the first heritage festival after Fazilka attained its district status. " The district administration will go all out to make it a success," said deputy commissioner Basant Garg.

Friday, April 6, 2012

रंग बदलते रहे, जिंदगी वही रही

अमृत सचदेवा, फाजिल्का

तेजी से भागती जिंदगी के लिए कहावत है कि सुख, दुख, हंसी, गम जैसे रंग एक से ही रहते हैं, इंसान की जिंदगी बदल जाती है लेकिन फाजिल्का के घनश्याम शर्मा इसका अपवाद हैं। रंग तो कई आए गए लेकिन उनकी जिंदगी मानो आज भी 52 साल से एक ही जगह पर खड़ी है।

72 वर्षीय घनश्याम शर्मा ने 1960 में पटियाला से फिल्म प्रोजेक्टर इंचार्ज का सर्टिफिकेट हासिल कर गिद्दड़बाहा के एक सिनेमा में नौकरी शुरू की थी। विभिन्न नगरों के सिनेमाघरों में सेवाएं देने के बाद 23 दिसंबर 1977 में फाजिल्का में बने संजीव सिनेमा में नौकरी शुरू करने के बाद से वे लगातार फाजिल्का में ही सेवाएं दे रहे हैं। तब से लेकर आज तक सिनेमा ने कई उतार चढ़ाव देखे, लेकिन घनश्याम शर्मा की जिंदगी आज भी वैसी ही है जैसी 52 बरस पहले थी। जब उन्होंने 1960 में प्रोजेक्टर इंचार्ज का काम संभाला था, तब सिनेमा की टिकट महज 65 पैसे हुआ करती थी जो आज बढ़कर न्यूनतम 35 रुपये हो चुकी है। जमाना बदलकर ब्लैक एंड व्हाइट से रंगीन फिल्मों का आ गया। शर्मा के अनुसार तब भारत में फिल्माई गई फिल्में अमरीका व अन्य यूरोपीय देशों में जाकर रंगीन होकर आती थीं। उन्होंने आधे आधे घंटे बाद लोड होने वाली 35 एमएम रील वाली फिल्में भी चलाई हैं। नई फिल्म रिलीज होने पर दूर दराज वितरण सेंटर जाकर बोली लगा फिल्में लानी पड़ती थीं। आज वे इंटरनेट तकनीक पर आधारित यूएफओ प्रोजेक्टर से फिल्में चला रहे हैं। फिल्म यूएफओ सर्वर के जरिये सीधे मुंबई से स्थानीय डिजिटल प्रोजेक्टर पर चलने लगती है। उन्होंने सिनेमा का वह स्वर्ण युग भी देखा है जब सिनेमा हॉल, बालकनी व सभी बॉक्स हाउस फुल होने पर फिल्मों के दीवाने लोग प्रोजेक्टर रूम में आ उनके कंधों पर बैठ फिल्में देखते थे और आज का जमाना भी है कि डिजिटल तकनीक के बावजूद अधिकांश सीटें खाली होने पर भी फिल्म चलानी पड़ती है।

जमाने के रंगों से अलग शर्मा की जिंदगी का असल पहलू यह है कि 1960 में 80 रुपये प्रतिमाह की नौकरी जिंदगी बसर करने के लिए कम थी और आज 52 साल बाद मिल रही 35 सौ रुपये प्रतिमाह तनख्वाह भी 12 से 14 घंटे की ड्यूटी के लिए कम है।

बहरहाल, शर्मा की निरंतर सेवाओं के मद्देनजर ग्रेजुएट वेलफेयर एसोसिएशन ने वीरवार को उन्हें सम्मानित किया। एसोसिएशन के सचिव इंजीनियर नवदीप असीजा व लोक संपर्क अधिकारी (पीआरओ) लछमन दोस्त ने बताया कि शर्मा को फाजिल्का हेरिटेज फेस्टिवल में लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा गया।

Wednesday, April 4, 2012

Supreme Court bats for poor rickshaw pullers


"Why apply brakes on rickshaws, not on killer cars?"

"YOU CANNOT ROB A POOR MAN OF HIS LIVELIHOOD":A rickshaw puller out earning his livelihood in Delhi

The Supreme Court on Monday upheld a Delhi High Court order holding that municipal authorities could not cap the number of licences for cycle rickshaws as putting any such restriction or fixing a ceiling would amount to denial of the people's basic right to earn a livelihood.

A Bench of Justice G. S. Singhvi and Justice S. J. Mukhopadhyaya, dismissing an appeal filed by the Municipal Corporation of Delhi against the Delhi High Court order, said that making such provisions in 2007 (putting a cap of 99,000 on the number of rickshaws in the Capital, levying fines of Rs.5 to 50, etc.) in municipal by-laws would amount to abolition of rickshaws which were not only a source of bread and butter for the poor but also cheap transport for the common man.

The Court expressed concern over the plight of poor rickshaw pullers and questioned the MCD for bringing the controversial rules. On the contrary, it said, no law was being made to discourage reckless violations of the Motor Vehicles Act and rampant killing of people by drunken driving.

Justice Singhvi said, "The mind-set of the officers is….how can rickshaw pullers have a right under the Constitution! You (authorities) are not prepared to scrap cars, impound their licences and put the violator behind bars for at least ten years for drunken driving and killing people. Just because a person (rickshaw puller) is weak and meek does not mean he has no right. In your (MCD's) so-called vision, you must have thought that by scrapping rickshaws there will be enough space for cars and other vehicles on the roads."

Appearing for Manushi Sangathan, counsel Prashant Bhushan told the Court that the MCD had put a ceiling of 99,000 for grant of cycle rickshaw licences in the Capital, though there might be about five lakh rickshaws plying in Delhi. These rickshaws did not have licences because no new licences were being issued.

The Bench after hearing counsel for the parties declined to interfere with the High Court order quashing the municipal rules.

Do not test our patience, High Court warns UT : Ecocabs and Car Free Zones

Raps UT for dragging feet on making Sector 17 vehicle-free zone; shop owners' lawyer suggests sharp hike in parking rates
Warning the Chandigarh Administration not to "test it's patience", the Punjab and Haryana High Court today came down heavily on the UT for dragging its feet on the issue of making Sector 17 a vehicle-free zone. As the counsel for the UT Administration sought time to submit its stand, a division bench comprising Justice Surya Kant and Justice Ajay Tewari today granted the Administration the last opportunity to place on record its stand by April 20. Speaking for the Bench, Justice Surya Kant told the counsel for the Administration that there should be no doubt that the Court is reluctant in passing an order in this regard.

"Do not test our patience. Do not compel us to pass an order which will have far-reaching consequences," warned Justice Surya Kant. Asked whether anything in black and white has been filed by the UT Administration to apprise about the steps taken by the officials, the response came in the negative. Peeved, the division bench remarked that the officials of the Chandigarh Administration do not have this much of respect for the Court that at least an affidavit is filed to apprise the Court of its efforts taken so far.

"Nothing is happening except consultations," the Bench observed. The developments took place during the resumed hearing of a public interest litigation (PIL) arising of a suo motu notice taken by the High Court on a news item published by The Indian Express , which had highlighted the significance of eco-cabs and environment-friendly cabs, innovated by Fazilka resident Navdeep Asija.

Appearing on behalf of the Sector 17 shop owners, noted lawyer Anupam Gupta suggested that the there should be a sharp increase in the parking fees in Sector 17. Gupta also said that during office hours, essentially from 11 am to 12 noon, Sector 17 can be made a vehicle-free zone.

Submitting that the Chandigarh Traffic Police is "withdrawn", Gupta further suggested that deployment of UT Traffic Police officials can serve an "efficacious purpose". Assisting the Court, amicus curiae Reeta Kohli added that effective use of underground parking can be made to decongest traffic in Sector 17. A suggestion to make use of a shuttle service for dropping of visitors was also made during the resumed hearing.

Assisting the Court, Advocate APS Shergill alleged that the Chandigarh Administration is not serious about the issue. He further alleged that money has been charged for converting green areas into parking areas.

He said that city beautiful is losing its character. The Bench emphasised that parking space should be made available by the Administration for parking of vehicles.

On the last date of hearing, the High Court had asked the counsel for the Administration to reply on why Sector 17 should not be made a vehicle-free zone after 4 pm. The Bench had suggested that no vehicle should be allowed to enter the Sector 17 market after 4 pm from Lyon's restaurant (from Sector 15 side) to Sahab Singh (from Sector 18 side).

Senior Standing Counsel for the Administration Sanjay Kaushal had submitted that the UT has taken a decision to make Sector 17 vehicle-free but in phases.

Tuesday, April 3, 2012

Erasing the borders

The Sufi saint, Sultan-i-Hind Gharib Nawaz Moinuddin Chishti, has the power to erase the borders of the mind, several hundred years after he lived and died in Ajmer in 1230 AD. It is eloquent testimony to the fact that the people of South Asia still follow a different rhythm than the one often ordained by their governments. 

For just a moment, you could accuse the president of Pakistan, Asif Ali Zardari, of having other, much more worldly ideas up his sleeve, when he comes for a day-long visit to Ajmer Sharif later this week. He must have known, you could argue, that since he let known his desire to visit the dargah of the Sufi saint, India could hardly refuse. To come to India and not meet the Indian prime minister? Admittedly, that would be a diplomatic faux pas of horrendous proportions. 

Clearly, Zardari has stolen an imaginative moment from the bitter-sullen history of India-Pakistan, by asking to come to pay his respects to a cherished and much-beloved saint across the Indian subcontinent. It shows what we, despite the horrendous Mumbai attacks of 2008, are still capable of. 

Perhaps the Pakistani president will seek forgiveness for those attacks and pray that both countries can move on by jointly erasing the scourge of terrorism. God knows, there are more people killed in Allah's name in Pakistan today than elsewhere in the region. 

In fact, the Zardari visit could turn out to be one of those moments in India-Pakistan ties when we accidentally rise above ourselves and renew our promises to our people. Over the past year, as New Delhi, very quietly but very deliberately, broke the link between Pakistani action on the Mumbai attacks and progress elsewhere in the relationship, much has happened behind the veil of hateful rhetoric that both countries love to envelop themselves in. 

To be sure, there is the recent move by Zardari's government - as well as the army, run by Ashfaq Kayani - to end the completely ridiculous "positive list" that defined the bilateral trading relationship (meaning, you could only trade those items on that list) and move to a "negative list", which means you can trade anything except the 1,200-odd items on that list. This list, the Pakistani establishment has promised, is a precursor to the Most Favoured Nation status that is overdue from Pakistan to India, since 1996. 

The fact is, Zardari's Pakistan is enormously keen to return to becoming a "normal" country, especially in its ties with India with which it shares a very special relationship. There is the fact of the economy in a fearful downward spiral, which, when coupled with the almost-daily terrorist attacks, has made the average Pakistani look at its own overreaching army with increasing distaste. 

The fact is, Pakistan needs help. It is also too proud to ask it of a neighbour with whom it has fought three wars, one major conflict at Kargil and added insult to grievous injury by the terrorist acts in Mumbai. But India must also realise that the Mumbai terror attacks are also condemned by ordinary Pakis-tanis with the same vigour and passion that India reserves for those awful 62 hours. 

If a rising India, clearly the economic engine of the region, wants to improve relations with all the countries of its neighbourhood, what better way than to integrate all these states and make it part of the economic miracle? India must redeem itself by ensuring inclusive growth not only at home, but promising that all boats rise together in South Asia. 

Surely, the Pakistanis are catching on? None other than Pakistan's commerce minister Makhdoom Amin Fahim (who belongs to Zardari's Sindh province) told his Indian counterpart, Anand Sharma, during talks in Islamabad in February, that Pakistan wanted India to extend it the same lowered tariff privileges it had extended to its eastern neighbour, Bangladesh. 

To say that Sharma was stumped with the Pakistani request would be an understatement. His reply was somewhere along Manmohan Singh's statement to Pakistani prime minister Yousaf Raza Gilani in Seoul recently: You have to do something solid. 

To Singh's credit, he sees clearly that economics must create a wedge into the complicated politics of India-Pakistan. There is now the promise to export petroleum products as well as lay an oil pipeline from Bathinda, via Fazilka - the scene of major Hindu-Muslim riots during Partition, considering it is only 11 km from the border - to energy-starved Pakistan. 

Singh's real problem, of course, is his management of the unwieldy coalition at home, and the real need to take the opposition along. As the head of an increasingly weakened government, he's unable to get a grip on the fractious politics inside India. He has wanted to make a visit to Pakistan since 2007 - in fact, the streetlights in his beloved home-town, Gah, in Chakwal district back there were even fixed in anticipation of his visit - but now fears he may be seen to be too out-of-touch with the mood at home if he proposes the plan. 

This is where the suave Zar-dari comes in. With much flair and a perfect sense of timing, he's announced that he's coming to India later this week. With a little help from Gharib Nawaz, on whose saintly shoulders the hopes of large parts of the subcontinent lie, some things have got to give. 

The writer is a commentator on foreign affairs.